अब स्लो ओवर रेट के लिए दी जाएगी ये सजा, ICC ने T20 क्रिकेट के लिए लागू किए नए नियम

 
Icc
स्पोर्ट्स डेस्क. 16 जनवरी 2022 को सबीना पार्क में वेस्टइंडीज और आयरलैंड के बीच होने वाले इकलौते टी-20 मैच से ये नियम प्रभाव में आएगा। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद ने शुक्रवार 7 जनवरी 2022 को T20 इंटरनेशनल के प्लेइंग कंडीशन में बदलाव करने की घोषणा की है। इसके अलावा द्विपक्षीय T20 इंटरनेशनल सीरीज में प्रत्येक पारी के बीच में 2.5 मिनट का ऑप्शनल ड्रिंक्स ब्रेक भी लिया जा सकेगा. इसके लिए पहले दोनों देशों के बोर्ड को इस बारे में समझौता करना आवश्यक होगा। 
Icc
नए नियमों के अनुसार, अगर कोई टीम ओवर रेट में तय समय से पीछे रहेगी तो बाकी के बचे ओवर में 30 गज के दायरे से बाहर एक कम प्लेयर को खड़े करने की इजाजत मिलेगी. ऐसे में ज्यादातर फील्डर 30 गज के दायरे में खड़े रहेंगे. आज के समय में पावरप्ले के बाद 30 गज के बाहर 5 क्षेत्ररक्षक खड़े हो सकते हैं परंतु ओवर रेट के लिए पेनल्टी मिलने पर 4 फील्डर ही बाहर खड़े हो पाएंगे। ओवर रेट के नियम प्लेइंग कंडीशन के खंड 13.8 में दर्ज हैं, जो ये निर्धारित करते हैं कि एक फील्डिंग साइड पारी के आखिरी ओवर की पहली गेंद को निर्धारित या पुनर्निर्धारित समय के अंदर फेंकने की स्थिति में होना चाहिए। 
दक्षिण अफ्रीका और वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम के बीच में 18 जनवरी 2022 को सेंचुरियन में 3 मैचों की श्रृंखला का पहला T20 मैच खेला जाएगा. बता दें कि नए प्लेइंग कंडीशन में खेला जाने वाला ये पहला वुमन्स T20 मैच होगा। आईसीसी क्रिकेट समिति की तरफ से इस बदलाव की सिफारिश की गई थी. आईसीसी क्रिकेट समिति नियमित रूप से सभी प्रारूपों में खेल नियमों में सुधार के तरीकों पर चर्चा करने का काम करती है. एक और बात बता दें कि इस तरह के नियम ईसीबी द्वारा आयोजित द हंड्रेड प्रतियोगिता में भी शामिल हुए थे