टीम इंडिया के मुख्य कोच पर बरसे रवि शास्त्री, 'बार-बार ब्रेक नहीं लेना चाहिए'

 
d

भारतीय टीम इस समय न्यूजीलैंड के दौरे पर है और यहां उसे तीन मैचों की वनडे और टी20 सीरीज में हिस्सा लेना है। हालांकि कप्तान रोहित शर्मा समेत सीनियर खिलाड़ियों को इस दौरे के लिए आराम दिया गया है, जिससे टी20 में हार्दिक पांड्या और वनडे सीरीज में शिखर धवन टीम की कप्तानी करेंगे। इतना ही नहीं, चौंकाने वाली बात यह है कि मुख्य कोच राहुल द्रविड़ ने भी ब्रेक ले लिया है। जी हां, द्रविड़ की गैरमौजूदगी में वीवीएस लक्ष्मण बतौर कोच टीम लेकर न्यूजीलैंड गए हैं। ऐसे में रवि शास्त्री ने गुस्से में आकर सवाल खड़े कर दिए.

दरअसल, रवि शास्त्री ने कहा है कि 'एक कोच को प्रैक्टिकल होना चाहिए, अपने खिलाड़ियों के साथ ज्यादा समय बिताना चाहिए और बार-बार ब्रेक नहीं लेना चाहिए।' वैसे ये पहली बार नहीं है जब द्रविड़ ने आराम किया है. जी हाँ, दरअसल वह इससे पहले आयरलैंड और जिम्बाब्वे के दौरे पर भी नहीं गए थे और दोनों मौकों पर वीवीएस लक्ष्मण ने कमान संभाली थी. हाल ही में रवि शास्त्री ने प्राइम वीडियो द्वारा आयोजित एक कॉल के दौरान संवाददाताओं से कहा, 'मैं ब्रेक में विश्वास नहीं करता। मुझे अपनी टीम और खिलाड़ियों को समझना और फिर उस टीम के नियंत्रण में रहना पसंद है। सच कहूं तो आपको इस तरह के ब्रेक की जरूरत क्यों है? आपको आईपीएल के दो-तीन महीने मिलते हैं। जो एक कोच के तौर पर आराम करने के लिए काफी है। दूसरी बात मुझे लगता है कि एक कोच को व्यावहारिक होना चाहिए चाहे वह कोई भी हो।'


इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा, 'मैं कुछ भी इशारा नहीं करना चाहूंगा। लेकिन आगे जाकर, भारतीय टीम के पास खिलाड़ियों के लिए भूमिकाओं की पहचान करने, मैच विजेताओं की पहचान करने और इंग्लैंड के टेम्पलेट का काफी हद तक पालन करने का अवसर है। इंग्लैंड एक ऐसी टीम है जिसने वास्तव में प्रभावित किया है। 2015 वर्ल्ड कप के बाद इंग्लिश क्रिकेट में काफी हलचल मची थी। उन्होंने चर्चा की और फैसला किया कि उन्हें सीमित ओवरों के प्रारूप के लिए सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी मिलेंगे।'

शास्त्री ने अपनी बात को जारी रखते हुए कहा, इसका मतलब यह हुआ कि इंग्लैंड टीम के कुछ सीनियर खिलाड़ियों को बाहर बैठना पड़ा। उन्हें ऐसे युवा मिले जो निडर थे और जो अपने खेल में बहुत अधिक बदलाव किए बिना उस पैटर्न को अपना सकते थे। तो यह एक ब्लूप्रिंट है जिसका पालन करना आसान है। भारत में बहुत प्रतिभा है। मुझे लगता है कि यह इस दौरे से शुरू हो सकता है क्योंकि जब आप इस टीम को देखते हैं, तो यह एक नई और युवा टीम है, आप इसे पहचान सकते हैं और तैयारी कर सकते हैं। आप इस भारतीय टीम को दो साल में आगे ले जा सकते हैं।