IPL 2022: कौन लेगा CSK में रवींद्र जडेजा की जगह, जानिए महेंद्र सिंह धोनी ने क्या कहा !

 
Jadeja
इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 15वें सीजन में टीम का प्रदर्शन बेहद निराशाजनक रहा है. मैदान के अंदर तो चेन्नई ने काफी खराब दौर देखा है लेकिन मैदान के बाहर भी हाल ही में ये टीम गलत कारणों से चर्चा में रही है. चेन्नई सुपर किंग्स (Chennai Super Kings) को लेकर इस समय अटकलों का बाजार गर्म है. कारण है रवींद्र जडेजा (Ravindra Jadeja). जडेजा को इस सीजन की शुरुआत में कप्तान नियुक्त किया गया था लेकिन फिर उन्होंने बीच सीजन में कप्तानी छोड़ी दी और महेंद्र सिंह धोनी को कप्तानी सौंप दी. इसके बाद वह दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ नहीं खेल और फिर खबर आई की चेन्नई सुपर किंग्स ने जडेजा को इंस्टाग्राम पर अनफॉलो कर दिया. जडेजा चोट के कारण संभवतः इस सीजन से ही बाहर हो गए हैं. इस बीच गुरुवार को महेंद्र सिंह धोनी मुंबई के खिलाफ मैच में टॉस के समय जडेजा को लेकर अहम बात कही है।
Jadeja
चेन्नई और मुंबई गुरुवार को वानखेडे स्टेडियम में आमने-सामने हैं. इस मैच में भी जडेजा नहीं हैं क्योंकि वह चोट के कारण बायो बबल छोड़कर जा चुके हैं. महेंद्र सिंह धोनी जब टॉस के समय आए तो उनसे जडेजा को लेकर सवाल किया गया और धोनी ने अपने अहम खिलाड़ी की अहमियत बताते हुए बड़ी बात कह दी।
* इस सीजन नहीं चले जडेजा :
Jadeja
जडेजा ने शुरुआती आठ मैचों में चेन्नई की कप्तानी की लेकिन सिर्फ दो मैचों में ही टीम को जीत दिलाई थी. इसके बाद खबर आई की उन्होंने कप्तानी छोड़ने का फैसला किया है क्योंकि वह अपने प्रदर्शन पर ध्यान देना चाहते हैं. जडेजा के इस साल के प्रदर्शन को देखा जाए तो बाएं हाथ के इस खिलाड़ी ने इस सीजन 10 मैच खेले हैं और 116 रन बनाए हैं. इस दौरान उनका सर्वोच्च स्कोर नाबाद 26 रन बनाए हैं. वहीं गेंदबाजी की बात की जाए तो उनके हिस्से पांच विकेट आए हैं. इस सीजन जडेजा की फील्डिंग भी अच्छी नहीं रही है. उन्होंने कुछ मैचों में आसान से कैच छोड़े।
* जडेजा को रिप्लेस करना मुश्किल :
धोनी ने जडेजा को लेकर कहा कि उन जैसे खिलाड़ी को रिप्लेस करना मुश्किल है. धोनी ने कहा, “जडेजा ऐसे खिलाड़ी रहे हैं जिन्होंने हमें अलग-अलग संयोजन को आजमाने में मदद की है. उनको रिप्लेस करना बेहद मुश्किल है. मुझे नहीं लगता कि कोई उनसे अच्छी फील्डिंग कर सकता है. इस मामले में उनका कोई रिप्लसेमेंट नहीं है. जब काफी कुछ दांव पर लगा हो तो आपको काफी होमवर्क करना पड़ता है और प्रक्रिया पर फोकस करना होता है, चाहे सामने कोई भी टीम हो।