IPL टूर्नामेंट दिखाने के लिए BCCI की झोली भरने को तैयार विदेशी चैनल, ब्रिटेन से साउथ अफ्रीका तक में लगी होड़!

 
Ipl
 IPL 2022 में अभी भी ग्रुप स्टेज के मुकाबले चल रहे हैं और अभी भी प्लेऑफ की रेस जारी है. बीसीसीआई (BCCI), हालांकि अगले सीजन की तैयारियों में लगी है और इसका सबसे बड़ा हिस्सा है आईपीएल के प्रसारण अधिकार (IPL Media Rights) यानी टीवी पर या डिजिटल प्लेटफॉर्म पर आईपीएल का प्रसारण कौन करेगा. अगले 5 सालों तक मिलने वाले इन अधिकारों के लिए कई दिग्गज कंपनियों के बीच टक्कर होने वाली है और विदेशों में भी इसको लेकर उत्साह है. टूर्नामेंट में करीब तीन हफ्तों से ज्यादा का वक्त बाकी है और हर कोई इसमें डूबा हुआ है. यही कारण है कि अब दो विदेशी कंपनियों, स्काय स्पोर्ट्स और सुपरस्पोर्ट्स (Sky Sports and Supersports) ने भी इस कोशिश में कूद गए हैं.
Ipl
समाचार एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक, आईपीएल के अगले मीडिया राइट्स साइकल (5 साल) के लिये क्योंकि ब्रिटेन के स्काय स्पोटर्स और दक्षिण अफ्रीका के सुपरस्पोर्ट जैसे अनुभवी और मशहूर अंतरराष्ट्रीय प्रसारकों ने भी बोली के दस्तावेज (ITT) खरीदे हैं. बीसीसीआई इन अधिकारों की बिक्री से 50000 करोड़ रूपये से ज्यादा की कमाई की उम्मीद कर रहा है और उसकी इस उम्मीद को और अधिक बल मिला है ताजा घटनाक्रम से. हालांकि, आईटीटी दस्तावेज लेने के यह मायने नहीं है कि ये चैनल बोली लगायेंगें ही।
* 4 अलग-अलग पैकेज बनाए BCCI ने :
IPL
ITT की कीमत बीसीसीआई ने 25 लाख रुपये (टैक्स अलग) रखी है, जो वापस नहीं लौटाई जाएगी. इसके बावजूद कई कंपनियां इसे खरीद रही हैं. इस बार भारतीय उपमहाद्वीप के लिये टीवी अधिकार, डिजिटल अधिकार, 18 मैचों (शुरूआती, सप्ताह के अंत में डबल हेडर, चार प्लेआफ) और शेष विश्व के लिये चार वर्ग बनाये गए हैं. आधार कीमत 32890 करोड़ रूपये है और चतुराई से पैकेज बेचे जाने पर सात अरब डॉलर से अधिक का मूल्य आंका जा सकता है. बोली के दस्तावेज खरीदने की आखिरी तारीख दस मई है और ई नीलामी आईपीएल के बाद होगी।
* आईपीएल को दुनियाभर में दिखाने के लिए लगाएंगे बोली :
IPL का मौजूदा मीडिया राइट्स साइकल डिज्नी-स्टार ग्रुप के पास हैं, जो इस सीजन के साथ ही खत्म हो रहा है. वायाकॉम 18, जी एंटरटेनमेंट, सोनी, ड्रीम इलेवन, एमेजॉन प्राइम जैसे बड़ी कंपनियों ने भी ITT लिये हैं. स्टार भी इसके लिए दोबारा रेस में है, लेकिन इस बार उसके लिए राह और भी ज्यादा मुश्किल हो गई है, क्योंकि बीसीसीआई ने मीडिया राइट्स को चार अलग-अलग पैकेजों में बांटा है और इस कारण कई अन्य कंपनियों ने भी दावा ठोक दिया है. ऐसे में स्काय स्पोटर्स और सुपरस्पोर्ट शेष विश्व (Rest of The World) टीवी अधिकारों के लिये बोली लगा सकते हैं।