SRH को हराकर बैंगलोर ने दोहराया 6 साल पुराना इतिहास, RCB ने किया ‘फाइनल’ पक्का

 
Rcb
रविवार को बैंगलोर ने सनराइजर्स हैदराबाद (SRH) को 67 रनों से हराया और अगर ये कहा जाए कि इस जीत के साथ ही बैंगलोर का फाइनल में पहुंचना पक्का हो गया है, तो हर किसी को हैरानी जरूर होगी. जाहिर तौर पर सवाल उठेगा, क्योंकि अभी तो प्लेऑफ में भी किसी टीम ने जगह पक्की नहीं की है. फिर भी ऐसा हो सकता है और उसके पीछे एक खास संयोग है. आईपीएल के 14 सीजन से खिताब जीतने में नाकाम रही रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (RCB) 15वें सीजन में भी पूरी जोर आजमाइश पर लगी है. IPL 2022 में नए कप्तान फाफ डुप्लेसी के नेतृत्व में बैंगलोर ने अभी तक 12 मैच खेले हैं और 7 जीत के साथ पॉइंट्स टेबल (IPL Points Table) में चौथा स्थान पर कब्जा किया हुआ है. यानी टीम प्लेऑफ की रेस में बनी हुई है। अब ये संयोग क्या है इसके बारे में आपको बताएंगे, लेकिन उससे पहले जरा मैच के बारे में जान लीजिए. रविवार 8 मई को बैंगलोर ने हैदराबाद के खिलाफ बल्ले और गेंद से कमाल का प्रदर्शन किया. कप्तान फाफ डुप्लेसी ने पहले खुद नाबाद 73 रनों से टीम को 192 रनों के मजबूत स्कोर तक पहुंचाया।
* प्लेऑफ की रेस में मिली बढ़त
Rcb
बैंगलोर के 12 मैचों से 14 पॉइंट्स हैं और वह चौथे स्थान पर है. उसके बाद पांचवें स्थान पर दिल्ली है, जिसके 10 पॉइंट्स हैं. ये 4 पॉइंट्स का अंतर बचे हुए मैचों में अहम साबित हो सकता है. अब भविष्य में क्या होता है इसके बारे में कहना कुछ भी मुश्किल है. फिलहाल, इस जीत से RCB प्लेऑफ की रेस में तो टीम को बेहतर स्थिति में पहुंची है और उसका क्वालिफाई करना लगभग तय है. बैंगलोर को अब सिर्फ दो मैच खेलने हैं. 13 मई को उसका सामना पंजाब किंग्स से होगा, जबकि आखिरी मैच में 19 मई को गुजरात टाइटंस से टक्कर होगी. इन दोनों के खिलाफ ही बैंगलोर एक-एक मैच इस सीजन में खेल चुकी है और दोनों में उसे हार मिली है. ऐसे में टीम को हर हाल में यहां जीत दर्ज करनी होगी।
* तीसरी जीत, यानी तीसरा फाइनल :
बैंगलोर की इस जीत ने एक ऐसे संयोग की ओर इशारा किया है, जिससे लगता है कि बैंगलोर का फाइनल में पहुंचना तय है. असल में बैंगलोर इस मुकाबले में अपनी स्पेशल हरे रंग की जर्सी के साथ मैदान पर उतरी थी. बैंगलोर के खिलाड़ी पिछले कई सीजन से पर्यावरण संरक्षण को बढ़ावा देने के लिए एक मैच में हरे रंग की जर्सी पहनते हैं. अब स्थिति ऐसी है, कि जब भी टीम इस जर्सी में उतरती है, तो आम तौर पर उसे हार ही मिलती है. ये सिर्फ तीसरी बार है जब उसे जीत मिली. इत्तेफाक से टीम ने इससे पहले सिर्फ 2011 और 2016 में हरी जर्सी में जीत दर्ज की थी और दोनों बार RCB फाइनल में पहुंची थी।