मीराबाई के बाद जेरेमी लालरिनुंगा ने भारोत्तोलन में भारत को किया सम्मानित, जीता गोल्ड मेडल

 
jj

भारत ने राष्ट्रमंडल खेलों में दूसरा स्वर्ण और कुल मिलाकर 5वां पदक जीता। भारोत्तोलक जेरेमी लालरिनुंगा ने मैच के बीच में चोटिल होने के बावजूद हार नहीं मानी और पुरुषों के 67 किग्रा वर्ग में स्वर्णिम सफलता हासिल की। उन्होंने स्नैच में 140 किलो और क्लीन एंड जर्क में 160 किलो वजन उठाया। इस तरह उन्होंने कुल 300 KG उठाकर गोल्ड मेडल अपने नाम किया। समोआ के वेवापा एयोन (293 किग्रा) ने रजत पदक जीता।

जेरेमी ने स्नैच में अपने पहले प्रयास में 136 किलो वजन उठाया और स्वर्ण पदक की स्थिति में आ गए। दूसरे प्रयास में उन्होंने 140 किलो वजन उठाकर और खेलों का रिकॉर्ड बनाकर अपनी स्थिति मजबूत की। जेरेमी ने 143 किलो वजन के साथ तीसरा प्रयास किया लेकिन वह इसमें सफल नहीं हो सके।


भारतीय भारोत्तोलक ने क्लीन एंड जर्क के अपने पहले प्रयास में 154 किग्रा और अपने दूसरे प्रयास में 160 किग्रा भार उठाया है। तीसरे प्रयास में उन्होंने 164 किलो वजन का प्रयास किया लेकिन अब सफल नहीं हो सके। हालांकि इसके बावजूद उन्होंने गोल्ड अपने नाम किया है। जेरेमी अपने पहले क्लीन एंड जर्क प्रयास के दौरान घायल हो गए थे। इसके बावजूद वह दो बार और उठाने गए।

जेरेमी लालरिनुंगा 2018 युवा ओलंपिक के स्वर्ण पदक विजेता हैं। इसके साथ ही उन्होंने 2021 कॉमनवेल्थ चैंपियनशिप में भी गोल्ड जीता है। वहीं, कलात्मक जिम्नास्टिक आल राउंड के फाइनल में भारतीय जिम्नास्ट योगेश्वर सिंह ने 2 राउंड के बाद 25.550 अंक हासिल किए। उन्होंने पहले राउंड में 12.350 और दूसरे राउंड में 13.200 का स्कोर किया। वह इस समय 12वें स्थान पर हैं।