डिजिटल पेमेंट अपनाने में कर्नाटक अव्वल, दिल्ली किस नंबर पर?

Monday, 01 Jun 2020 10:20:41 AM

भारत में पिछले लगभग दो महीनों से लॉकडाउन का पालन किया जा रहा है। इस कठिन दौर में, सामाजिक भेद, मुखौटे, गलियाँ आदि अब अनिवार्य हो गए हैं। अन्य देशों की तरह, 24 मार्च से जारी लॉकडाउन के बीच भारत में डिजिटल क्रांति देखी गई है। लोग घरों में बैठे हैं और डिजिटल प्लेटफॉर्म के माध्यम से एक-दूसरे से जुड़ रहे हैं। ई-लर्निंग ऐप के जरिए शिक्षा दी जा रही है। कर्मचारियों को घर से काम करना आवश्यक है। इस दौरान ब्रॉडबैंड और इंटरनेट डेटा की खपत काफी बढ़ गई है। लोगों के घरों में होने के कारण इंटरनेट डेटा की खपत में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। डिजिटल भुगतान सेवा प्रदाता पेटीएम द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, भारत में डिजिटल भुगतानों के माध्यम से ब्रॉडबैंड और डेटा बिलों में 200 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। की बढ़ोतरी हुई है।

साथ ही मोबाइल रिचार्ज भी 42 प्रतिशत तक उछल गया है। लॉकडाउन के दौरान, लोगों ने दैनिक जरूरतों के सामान के लिए डिजिटल भुगतान मंच का उपयोग 30 प्रतिशत अधिक करना शुरू कर दिया है। पेटीएम ने मोबाइल, डीटीएच रिचार्ज, पानी, बिजली बिल, क्रेडिट कार्ड बिल, बीमा प्रीमियम आदि जैसी सेवाओं को अपने स्टे होम एसेंशियल सेक्शन में जोड़ा है। Paytm ने लॉकडाउन के पहले चरण में 22 मार्च से 15 अप्रैल के बीच डेटा साझा किया है। इस डेटा के अनुसार, उपयोगकर्ताओं ने पहले की तुलना में मोबाइल, डीटीएच, ब्रॉडबैंड, डेटा कार्ड बिल, किराना आदि के लिए अधिक डिजिटल प्लेटफार्मों पर निर्भरता दिखाई है।



पेमेंट्स ऐप द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, उनके प्लेटफॉर्म के माध्यम से मोबाइल रिचार्ज में 42 प्रतिशत की वृद्धि, डीटीएच रिचार्ज में 58 प्रतिशत की वृद्धि, ब्रॉडबैंड और डेटा कार्ड के भुगतान में 200 प्रतिशत की वृद्धि, किराना और फार्मेसी वस्तुओं में 30 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। दुग्ध उत्पादों में वृद्धि 15%, गेमिंग प्लेटफार्मों के लिए 60% वृद्धि और स्ट्रीमिंग सेवाओं के लिए 230% वृद्धि देखी गई है। पेटीएम के एक प्रवक्ता ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान, हमने बहुत सी जरूरी चीजें देखी हैं, लोग डिजिटल भुगतान को अपना रहे हैं, खासकर लोग रिचार्ज, उपयोगिता भुगतान, बीमा प्रीमियम जैसी सेवाओं की सदस्यता के लिए डिजिटल भुगतान का सहारा ले रहे हैं। अब अधिक उपयोगकर्ता पेटीएम ऐप पर भरोसा कर रहे हैं और हमारी टीम इसके लिए कई प्रकार की साझेदारी बढ़ाने पर जोर दे रही है। हमें उम्मीद है कि अधिक से अधिक भारतीय उपयोगकर्ता अब डिजिटल भुगतान की आसानी को समझेंगे और आने वाले दिनों में उन्हें इसकी आदत हो जाएगी।

loading...