loading...

दिल्ली में बीजेपी के हार के क्या-क्या प्रमुख कारण हो सकते हैं? आप भी जानिए

Saturday, 15 Feb 2020 11:57:48 AM

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

दिल्ली में मेरी नजरों में बीजेपी के हार के कारण:-

loading...

1:- बीजेपी पिछले 5 सालों में मुख्यमंत्री का कोई चेहरा नहीं बना सकी।

Image result for दिल्ली में बीजेपी के हार के क्या-क्या प्रमुख कारण हो सकते हैं? आप भी जानिए

बीजेपी पिछले 5 सालों में मुख्यमंत्री का कोई चेहरा नहीं बना सकी ना ही किसी स्थानीय नेतृत्व को उभरने दिया। याद रखिए हर चुनाव सिर्फ मोदी और अमित शाह के चेहरे के आधार पर नहीं लड़ा जा सकता।

2:- कार्यकर्ताओं की भारी अनदेखी

आम आदमी पार्टी का हर कार्यकर्ता उनकी सिस्टम का एक हिस्सा है.. केजरीवाल ने लगभग सभी कार्यकर्ताओं को उनके क्षमता के आधार पर पूरे इकोसिस्टम में कहीं ना कहीं सेट कर दिया है।

और जो कार्यकर्ता कहीं नहीं सेट हो पाते तब केजरीवाल उन्हें बीच-बीच में ऑड इवन लागू करके उन्हें वालंटियर बनाकर उन्हें सरकारी खजाने से भुगतान कर देता है।

आम आदमी पार्टी के कई सौ कार्यकर्ताओं ने अपने घरों में मोहल्ला क्लीनिक खोलकर भाड़े की खूब कमाई की है। जिस मकान का भाड़ा ₹10000 है। वही मकान दिल्ली सरकार ₹25000 भाड़ा दे रही है।

वहीं बीजेपी अपने कार्यकर्ताओं को सूफियाना, आदर्शवादी और नैतिकता की बड़ी-बड़ी बातें बोलकर कहती है कि तुम हवा पानी पीकर हमारे लिए काम करते रहो।

इतना ही नहीं दिल्ली डायलॉग कमीशन में आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं को 40000 से लेकर डेढ़ लाख रुपए तक की सैलरी दी जाती है। मत भूलिए कि कार्यकर्ता खुद भी सिस्टम का एक हिस्सा बनना चाहता है। अफसोस बीजेपी अपने कार्यकर्ताओं को कभी सिस्टम का हिस्सा नहीं मानती।

3:- बीजेपी के नेताओं का दिल्ली की जनता से दूर रहना।

दिल्ली के सभी बीजेपी नेता दिल्ली की आम जनता से बहुत दूर जा चुके हैं। कोई भी अब जमीन पर उतर कर जनता के बीच में जाकर काम नहीं करना चाहता। बल्कि सब सत्ता की मलाई चाटना चाहते हैं।

4:- केजरीवाल द्वारा हर एक कार्यकर्ता को उचित सम्मान दिया जाना।

Image result for दिल्ली में बीजेपी के हार के क्या-क्या प्रमुख कारण हो सकते हैं? आप भी जानिए

अरविंद केजरीवाल कि एक अच्छी बात यह है कि वह अपने हर कार्यकर्ता के सुख दुख में शामिल होता है। वह कई कार्यकर्ताओं के घर शादियों में भी जाता है यदि किसी कार्यकर्ताओं के घर निधन होता है तब वहां भी जाता है। इस वजह से उसने अपने कार्यकर्ताओं की एक ऐसी निष्ठावान फौज तैयार कर ली है जिसे तोड़ पाना अब बीजेपी के लिए बेहद मुश्किल है। क्योंकि बीजेपी के नेता पिछले कुछ सालों में सत्ता का स्वाद मिलने के बाद बहुत घमंडी हो चुके हैं।

5:- केजरीवाल द्वारा सभी स्कीम में कोई भी जातिभेद ना लागू करना।

बीजेपी की केंद्र सरकार हो या बीजेपी की कोई भी राज्य सरकार हो जब भी कोई स्कीम लागू करती है तब वह उसमें अनुसूचित जाति अनुसूचित जनजाति अन्य पिछड़ा वर्ग इत्यादि का कोटा लगा देती है। जबकि सबको पता है कि बीजेपी के कोर वोटर वह लोग हैं जिन्हें बीजेपी कभी कोई स्कीम का फायदा नहीं देती।

केजरीवाल ने इसी कमजोरी का फायदा उठाया और दिल्ली में उसने जितनी भी स्कीमें लांच की उन्हें आरक्षण से दूर रखा

मेट्रो और डीटीसी में महिलाओं के लिए फ्री यात्रा की तो सभी वर्ग की महिलाओं के लिए फ्री हुए। मुफ्त बिजली और मुफ्त पानी में भी उसने कोई आरक्षण सिस्टम नहीं लागू किया।

6:- अपने वोटर का पूरा ख्याल रखना।

Image result for दिल्ली में बीजेपी के हार के क्या-क्या प्रमुख कारण हो सकते हैं? आप भी जानिए

केजरीवाल को यह पता है कि दिल्ली के मुस्लिम वोटर अब आम आदमी पार्टी के कोर वोटर बन चुके हैं। इसलिए उसने मुस्लिम वोटरों को लुभाने के लिए बहुत सी योजनाएं लागू की जिसमें हर मस्जिद के मुयज्जिम यानी जो अजान पढ़ता है उन्हें सरकारी खजाने से ₹18000 सैलरी देना। मुस्लिम लड़कियों के लिए कई योजनाएं लागू करना और हर मस्जिद में सरकारी खजाने से साफ-सफाई और रंग रोशन करने के लिए पैसा देना।

इतना ही नहीं दिल्ली वक्फ बोर्ड पूरे भारत में मुस्लिमों के साथ खड़ा रहा चाहे वह बाइक चोर तबरेज अंसारी को दिल्ली वक्फ बोर्ड के खजाने से 20 लाख देना हो या फिर राजस्थान के पहलू खान को दिल्ली के सरकारी खजाने से 20 लाख देना हो, केजरीवाल ने अपने मुस्लिम वोट बैंक को खुश करने में कोई कसर नहीं छोड़ी

जबकि बीजेपी को यह पता है कि उसके कोर वोटर कौन हैं लेकिन वह उन्हें अपनी ओर आकर्षित करने के लिए ऐसी कोई योजना नहीं बना रही है।

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


loading...