SC ने औरंगाबाद में मारे गए प्रवासियों मजदूरों की याचिका खारिज कर दी

Saturday, 16 May 2020 09:05:12 AM

नई दिल्ली: कोरोनोवायरस संकट के बीच चल रहे लॉकडाउन में प्रवासियों को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। हाल ही में, महाराष्ट्र से घर जाने की चाहत में पैदल जा रहे 16 मजदूर औरंगाबाद में ट्रेन की चपेट में आने से दर्दनाक मौत का शिकार हो गए। ये श्रमिक पैदल चलते हुए रेलवे की पटरियों पर सोते थे, इसी बीच मालगाड़ी से कटकर उनकी मौत हो गई। अब शीर्ष अदालत ने मामले की सुनवाई करने से इनकार कर दिया।

उनका कहना है कि अगर मजदूर पटरी पर सो गए तो क्या किया जा सकता है? उन्होंने सरकार से पूछा कि जो लोग घर जाने के लिए चलने लगे हैं उन्हें कैसे रोका जाए। इसके जवाब में सरकार की तरफ से कहा गया है कि सभी के घर लौटने की व्यवस्था की जा रही है। लेकिन लोगों को अपनी बारी का इंतजार करना होगा, जो वे नहीं कर रहे हैं।

दिल्ली उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को राज्य सरकार और रेलवे को निर्देश दिया कि वह किसी भी श्रमिक को पैदल न लौटाए। उच्च न्यायालय ने इसके लिए सरकार को ऑनलाइन रजिस्टर किया और यह सुनिश्चित किया कि श्रमिकों को पैदल न जाना पड़े। कोर्ट ने सरकार को अखबारों, टीवी पर विज्ञापन हटाने का निर्देश दिया है ताकि कार्यकर्ता जान सकें। कोर्ट ने रेलवे से कहा था कि जब भी दिल्ली सरकार उन्हें गाड़ियां देने के लिए कहेगी, हम उन्हें करवाएंगे।

loading...