100 दिनों बाद खुला कालीघाट मंदिर, दर्शन करने के लिए बनाए गए हैं ये नियम

Monday, 06 Jul 2020 01:59:51 PM

कोलकाता। कालीघाट काली मंदिर देश के 51 शक्ति पीठों में से एक है। हुगली नदी के तट पर बना यह मंदिर पूरी दुनिया मे मशहूर है। इस मंदिर से लगा घाट कालीघाट के नाम से जाना जाता है। किसी ज़माने मे गंगा घाट बिल्कुल मंदिर से लगा हुआ था, लेकिन अबयह थोड़ा दूर हो गया है। वैसे तो इस मंदिर को सत्रहवीं शताब्दी का माना जाता है लेकिन वर्तमान मंदिर साबर्ना रॉय चौधरी परिवार के संरक्षण में पिछले 200 सालों से चल रहा है।

आपकी जानकारी के लिए बता दे की कालीघाट काली मंदिर देश के 51 शक्ति पीठों में से एक है। हुगली नदी के तट पर बना यह मंदिर पूरी दुनिया मे मशहूर है। इस मंदिर से लगा घाट कालीघाट के नाम से जाना जाता है। किसी ज़माने मे गंगा घाट बिल्कुल मंदिर से लगा हुआ था, लेकिन अबयह थोड़ा दूर हो गया है। वैसे तो इस मंदिर को सत्रहवीं शताब्दी का माना जाता है लेकिन वर्तमान मंदिर साबर्ना रॉय चौधरी परिवार के संरक्षण में पिछले 200 सालों से चल रहा है।


कोरोनावायरस के कारण लागू लॉकडाउन के चलते लगभग 100 दिनों से बंद कोलकाता का प्रसिद्ध कालीघाट मंदिर श्रद्धालुओं के लिए अंतत: बुधवार को खोल दिया गया. मंदिर के कपाट सुबह छह बजे खोल दिए गए, जहां भक्तों ने कड़े दिशा-निर्देशों का पालन करके दर्शन किए. कालीघाट मंदिर के सूत्रों के अनुसार, श्रद्धालुओं को मंदिर में प्रवेश करने के लिए थर्मल स्क्रीनिंग के बाद सैनिटाइजिंग टनल से गुजरना होगा. मंदिर के गर्भगृह में प्रवेश वर्जित रहेगा.

मंदिर दो शिफ्ट में खुलेगा. सुबह 6:00 बजे से दोपहर 12:00 बजे तक और फिर शाम 4:00 बजे से 7:00 बजे तक. एक बार में केवल 10 लोगों को मंदिर में प्रवेश की अनुमति दी जाएगी. सूत्रों ने कहा कि नए नियम अनुसार सभी श्रद्धालुओं को मास्क पहनना अनिवार्य है, कोई भी श्रद्धालु मंदिर के देवता को नहीं छू सकता और न ही परिसर के अंदर प्रसाद बांट सकता है.

loading...