हिंसा की आग बंगाल पहुंची, रेलवे स्टेशन में लगाई आग

Saturday, 14 Dec 2019 10:39:50 AM

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

हिंसा की आग ढाका और दूसरे राज्यों में तेजी से फैल रही है. सरकार के चहेते लोगों को बुला कर हंगामा खड़ा करते हैं और सरकार बेबस है. अब यह आग पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद जिले में एक रेलवे स्टेशन परिसर में शुक्रवार शाम को हजारों लोगों ने नागरिकता कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया. इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने बंलियांडांगा में तैनात आरपीएफ कर्मियों की पिटाई भी की. आरपीएफ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि प्रदर्शनकारियों ने अचानक रेलवे स्टेशन परिसर में प्रवेश किया और प्लेटफॉर्म, दो-तीन इमारतों और रेलवे कार्यालयों में आग लगा दी. जब आरपीएफ कर्मियों ने उन्हें रोकने की कोशिश की तो उन्हें बेरहमी से पीटा गया.

बांग्लादेश की सीमा से लगे मुर्शिदाबाद जिले में इस वजह से ट्रेन सेवाएं प्रभावित हुईं. प्रदर्शनकारियों ने हावड़ा जिले के उलुबेरिया रेलवे स्टेशन पर पटरियों को भी बाधित कर दिया और कुछ ट्रेनों में तोड़फोड़ की और ड्राइवर को भी पीटा. नागरिकता संशोधन कानून के लागू होने के बाद पाकिस्तान, अफगानिस्तान, बांग्लादेश और आस-पास के देशों में धार्मिक उत्पीड़न के कारण वहां से भागकर आए हिंदू, ईसाई, सिख, पारसी, जैन और बौद्ध धर्म के लोगों को भारत की नागरिकता दी जाएगी. इस बिल में मुसलिम धर्म के लोगों को शामिल नहीं किया गया है. इसे लेकर विपक्षी दलों ने सरकार पर भेदभावपूर्ण होने और समानता के संवैधानिक अधिकार का उल्लंघन लगाया है.

Third party image reference

बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी नागरिकता संशोधन बिल के सबसे मुखर आलोचकों में से एक हैं. ममता बनर्जी ने चेतावनी दी है कि वह अपने राज्य में किसी भी परिस्थिति में इसके कार्यान्वयन की अनुमति नहीं देंगी और इसके खिलाफ कई रैलियों की घोषणा की. उन्होंने कहा कि नागरिकता अधिनियम भारत को विभाजित करेगा. जब तक हम सत्ता में हैं, तब तक राज्य में एक भी व्यक्ति को देश नहीं छोड़ना होगा.

बंगाल के अलावा, पूर्वोत्तर, विशेष रूप से असम में नागरिकता संशोधन अधिनियम को लेकर हिंसक विरोध प्रदर्शन हुए हैं. गुवाहाटी में गुरुवार शाम पुलिस की गोलीबारी में दो प्रदर्शनकारी भी मारे गए हैं. सेना पूरे असम में गश्त कर रही है. पूर्वोत्तर राज्यों को डर है कि कानून से पड़ोसी बांग्लादेश के आप्रवासियों को वैधता मिल जाएगी और क्षेत्र की जनसांख्यिकी बदल जाएगी. (राजनीतिक-सामाजिक मुद्दों पर सटीक विश्लेशण के लिए पढ़ें और फॉलो करें).

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures