Corona vaccine की दोनों खुराक लेने के बाद भी सिविल सर्जन डॉ बैरंगा Corona positive, हलचल पैदा

Thursday, 04 Mar 2021 08:04:57 PM

कोरोना वैक्सीन की दोनों खुराक लेने के बाद भी सिविल सर्जन डॉ। बारंगा पॉजिटिव पाए गए, तो हलचल मच गई


बैतूल: मध्य प्रदेश के बैतूल जिले से एक बहुत ही हैरतअंगेज मामला सामने आया है। यहां के जिला अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ। अशोक बारंगा कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। चौंकाने वाली बात यह है कि डॉ। बैरंगा को कोरोना वैक्सीन की दोनों खुराक मिली हैं, लेकिन उनके कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद भी जिले के स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है।''

आपको बता दें कि कोरोना वैक्सीन को लेकर उठ रहे सवालों के बीच यह मामला और भी विकराल है। इस बीच, कोरोना पॉजिटिव आने के बाद से डॉ। बारंगा होम क्वारेंटाइन में चले गए। गौरतलब है कि डॉ। बारंगा को 16 जनवरी को वैक्सीन की पहली खुराक दी गई थी और दूसरी खुराक 22 फरवरी को दी गई थी, जिसके बाद उन्हें 11 दिन बाद ही पॉजिटिव पाया गया। आपको बता दें कि कल राज्य के धार जिले से भी इसी तरह का मामला सामने आया था। दरअसल, धार जिला अस्पताल की एक महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता को कोरोना वैक्सीन की दोनों खुराक मिलने के बाद भी कोरोना पॉजिटिव पाया गया। इतना ही नहीं, इस महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता के शरीर में कोरोना का एंटी-बॉडी भी पाया गया है, लेकिन फिर भी महिला को कोरोना पॉजिटिव पाया गया। ऐसे में डॉक्टर खुद सकते में पड़ गए हैं और हैरान हैं।



डॉ। अनिल वर्मा कहते हैं कि हमारे पास एक जिला अस्पताल स्वास्थ्य कार्यकर्ता है और राउटिंग एमुलाइज़ेशन के तहत 17 जनवरी को कोविद वैक्सीन की पहली खुराक दी गई। बाद में, 22 फरवरी को कोरोना वैक्सीन की दूसरी खुराक पेश की गई। दो खुराक के बीच उनका स्वास्थ्य पूरी तरह से सामान्य था। किसी तरह की कोई समस्या नहीं थी। बताया जा रहा है कि अस्पताल के स्वास्थ्यकर्मियों ने कोविद के टीके की अवधि के दौरान कोविद से बचाव के लिए सभी आवश्यक सावधानी बरती। दूसरी खुराक के बाद, तीसरे-चौथे दिन, 24 फरवरी को, रात में थोड़ी ठंड थी, बुखार आया और समस्याएं पैदा हुईं। जिसके बाद उसे कोरोना टेस्ट किया गया और वह संक्रमित पाई गई।