भक्त हनुमान का यह पाठ आपकी हर मनोकामना पूरी करेगा

Wednesday, 08 Apr 2020 01:00:20 PM

हर साल हनुमान जयंती का त्यौहार बहुत धूमधाम से मनाया जाता है, लेकिन इस बार सभी को अपने घरों में रहकर इस त्यौहार को मनाना है। ऐसे में आज हम आपको श्री बजरंग बाण का पाठ बताने जा रहे हैं। कहा जाता है कि अगर हनुमान जयंती के दिन यह पाठ किया जाए तो सभी प्रकार की मनोकामनाएं पूरी होती हैं। तो आइए जानते हैं श्री बजरंग बाण का पाठ।

श्री बजरंग बाण का पाठ -



दोहा:

मैं वास्तव में प्यार प्यार करता हूँ, मैं तुम्हें प्यार करना चाहता हूँ
तेहि के कारण सकल शुभ, सिद्ध करैं हनुमान।


चारपाई:
जय हनुमंत संत हितकारी। हे प्रभु सुनो
लोगों का मरना संभव नहीं है। औरि डोरि महँ सुख दीजै
जैसे कि कुड़ी सिंधु महीपारा। सुरसा बदन पैठि बिस्तारा Pa
लंकिनी आगे रुक गई। मारेहु ने सुरलोका को लात मारी lo
जय बिभीषण प्रसन्नता से धन्य हो गया। सीता निरखी परमपद लीन्हा par
बाग उझारी सिन्धु अति भयंकर जामताड़ा तोरा
अक्षय कुमार मारी सन्हारा। बस लूम रैप लिंक
लाह उसी कड़ी से बनी है। जय जय धुनि सुरपुर नभ भई ४
अब बिल के मालिक हैं। कृपया मेरी मदद करें
जय जय लखन प्राण के दाता। आततायी जो शोक करता है
जय हनुमान जयति बाल-सागर। सुर-समूह-समरथ भट-नगर ४
ॐ हनु हनु हनु हनुमंत हठी बारिहि मारु बजर की कील u
ॐ H H H H H H H H H N NUMANT KAPISA ओम हूं तुम हो और लीड हो नी
जय अंजनी कुमार बलवंत शंकरसुवन बीर हनुमंता Han
बदन कराल काल-कुल-घालक। राम सहाय हमेशा अभिभावक रहे हैं।
भूत, प्रेत, पिसाच निशाचर। अगिन बेतल कल मारी मर
मारू उनको, तोही सपथ राम। राखू नाथ मरजाद का नाम
सत्य हो हरि सपथ पै कै राम धूत धरु मारु धाइ कै
जय जय जय हनुमंत अगाधा। दुःखी-त्रस्त लोग ही
पूजा जप तप नाम अचरा। नहिं जानत कछु दास तुम्हारा
बन उपबन मग गिरि गृह मैं भयउ नाहिं।
जनकसुता हरि दास कहवौ। तकी सपथ बिलंब न लावो bil
जय जय जानि धुनि होत अकासा। सुमिरत होय दु: ख नासा du
चरन पकरी, कर जोरी मनवौं। ये अउसर अब केहि गोहरवाँ
उठो, उठो, हटो, तोहि राम दुहाई। पे पारन, कर मनाया
Han चं चं चं चल चलं ओम हनु हनु हनु हनुमंता
ॐ मैं हाँ हूँ, मैं खुश हूँ ॐ कोई रूढ़िवादी पराना नहीं
अपने व्यक्ति को तुरंत ठीक करें। सुमिरत होय आनंद हमारौ
यह बजरंग-बान ताहि कहौ फिरि कावन उबरै
बजरंग-बान हनुमत रक्षा का पाठ करें प्राण की रक्षा होगी
यह बजरंग बाण जो पाठ करता है। सभी भूत सभी समान हैं।
जपा में हमेशा धूप होती है। कलसा तुम्हारी तरफ नहीं देख रहा है


दोहा:
उर प्रीति दृढ़, सरन ह्वै, ध्यान का पाठ करो।
बाधक सब कुछ, करें सब कुछ सफल हनुमान

loading...