महावीर जयंती: भगवान महावीर स्वामी की इस आरती के साथ पूजा करें

Monday, 06 Apr 2020 02:02:12 PM

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

आज महावीर जयंती है। जैन धर्म के 24 वें तीर्थंकर भगवान महावीर स्वामी के नाम पर चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी के अवसर पर जैन धर्म के अनुयायियों द्वारा महावीर जयंती मनाई जाती है। ऐसा कहा जाता है कि अहिंसा, सत्य और कई अचरज भगवान महावीर के सिद्धांत हैं और भगवान महावीर ने भी लोगों को ब्रह्मचर्य और अर्पण के माध्यम से जागृत करना सिखाया। आज हम आपके लिए लेकर आए हैं भगवान महावीर स्वामी की आरती, जो अगर आप पूजा के दौरान करते हैं, तो आपका बेड़ा पार हो सकता है। आइए जानते हैं भगवान महावीर स्वामी की आरती।



भगवान महावीर स्वामी की आरती -

आरती महावीर स्वामी की

जय महावीर प्रभो, स्वामी जय महावीर प्रभो।
कुंडलपुर अवतारी, त्रिशलानंद विभो ारी । ॐ जय ..... ॐ

सिद्धारथ घर जन्मे, वैभव ने भारी, स्वामी वैभव ने भारी थे। बाल ब्रह्मचारी व्रत पाल्यौ तपधारी त ॐ जय ..... ॐ

आतम ज्ञान विरागी, सम दृष्टि धारी।
माया मोह विनाशक, ज्ञान ज्योति जारी, ॐ जय ..... ॐ

जग में पाठ अहिंसा, तुमहि विस्तार्यो।
हिंसा पाप मिटाकर, सुधर्म परिचार्यो सु ॐ जय ..... ॐ

इह विधि चांदनपुर में अतिशय दरशायौ।
गोलवल मनोरथ पूर्तियो दूध गाय पायौ पूर् ॐ जय ..... ॐ

प्राणदान मन्त्री को आपने प्रभु दीना।
मन्दिर तीन शिखर का, निर्मित है कीना शिखर ॐ जय ..... ॐ

जयपुर नृप भी तेरा, अतिशय के सेवी।
एक ग्राम तिन दीनों, सेवा हित यह भी ीन ॐ जय ..... ॐ

जो कोई ते पास पर, इच्छा कर आवै।
होय मनोरथ पूरण, परिस्थिति मिट जावै पू ॐ जय ..... ॐ

निशि दिन प्रभु मंदिर में, जगमग ज्योति जरै।
हरि प्रसाद चरणों में, आनंद मोद भरै आनंद ॐ जय ..... ॐ

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


loading...