पाकिस्‍तान को 'दोस्‍त' मलेशिया ने दिया झटका, पैसे नहीं चुकाने पर जब्‍त किया प्‍लेन

Saturday, 16 Jan 2021 03:39:11 PM

कंगाली की दौर से गुजर रहे पाकिस्‍तान को उसके एक और 'दोस्‍त' ने करारा झटका दिया है। मलेशिया ने पाकिस्‍तान की सरकारी विमानन कंपनी पाकिस्‍तान इंटरनैशनल एयरलाइन्‍स के एक बोइंग 777 यात्री विमान को जब्‍त कर लिया है। पाकिस्‍तानी मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक यह विमान लीज पर लिया गया था और पैसा नहीं चुकाने पर विमान को जब्‍त कर लिया गया है। क्‍वालालंपुर एयरपोर्ट पर घटना के समय विमान में यात्री और चालक दल सवार था लेकिन उन्‍हें बेइज्‍जत करके उतार द‍िया गया। पाकिस्‍तानी अखबार डेली टाइम्‍स की रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्‍तान इंटरनैशनल एयरलाइन्‍स के बेड़े में कुल 12 बोइंग 777 विमान हैं। इन विमानों को विभिन्‍न कंपनियों से समय-समय पर ड्राई लीज पर लिया गया है। बताया जा रहा है कि मलेशिया ने जिस विमान को जब्‍त किया है, वह भी लीज पर था लेकिन लीज की शर्त के तहत पैसा नहीं चुकाने पर इस विमान को क्‍वालालंपुर में जब्‍त कर लिया गया है।


इससे पहले सऊदी अरब ने इमरान खान सरकार से अपने 3 अरब डॉलर वापस मांग ल‍िए थे। इमरान सरकार ने चीन से लोन लेकर सऊदी अरब के लोन को चुकाया था।बता दें कि पिछले साल मई महीने में कराची में कर्ज की पहाड़ तले दबे पीआईए का एक प्लेन क्रैश हो गया था। यही नहीं देश में पाकिस्तान इंटरनैशनल एयरलाइन्स को लेकर नए-नए खुलासे हो रहे हैं। देश के उड्डयन मंत्री सरवर खान ने कुछ समय पहले आरोप लगाया था कि पीआईए के करीब 40% पायलट फर्जी होते हैं। यही नहीं इमरान खान की पार्टी की प्रवक्ता ने कहा है कि यह बात भी सबको पता है कि PIA स्टाफ पहले कई तस्करी में पकड़ा जाता रहा है। एक टीवी चैनल से बातचीत के दौरान प्रवक्ता से सवाल किया गया था कि क्या पायलटों के फर्जीवाड़े का आरोप लगाने से दुनिया में मजाक नहीं बना है।


इस पर उन्होंने कहा कि ऐसे नहीं है। उन्होंने कहा, 'जब हमारे पास ये आया कि हमारा क्रू तस्करी माफिया के साथ शामिल है जिसमें ड्रग्स, करंसी, सोने की तस्करी शामिल है। हमारे पायलट पकड़े भी जाते हैं और उनके ऊपर आरोप भी लगते हैं।' पार्टी प्रवक्ता ने कहा है कि यह आरोप वह नहीं लगा रही हैं बल्कि ऐसे वाकये पहले रिपोर्ट हुए हैं। कराची क्रैश के बाद सरवर खान ने कहा था कि पिछले साल एक जांच में पता चला है कि पाकिस्तान के 860 ऐक्टिव पायलट्स में से 262 पायलट्स के पास या तो फर्जी लाइसेंस थे या उन्होंने अपने एग्जाम में चीटिंग की थी। उन्होंने कहा कि इन पायलट्स ने न कभी एग्जाम दिया होता है और न इनके पास प्लेन उड़ाने का सही अनुभव होता है। खान ने कहा कि दुर्भाग्य से पायट्स की नियुक्ति राजनीतिक आधार पर होती है। उन्होंने बताया कि 4 PIA पायलट्स की डिग्री फर्जी पाई गई है और नियुक्ति के वक्त मेरिट को नजरअंदाज कर दिया जाता है।