China का दोहरा चेहरा बेनकाब, इधर मदद को बढ़ाया हाथ, उधर लद्दाख में घुसा दी सेना

Saturday, 01 May 2021 11:42:42 AM

नई दिल्ली: कोरोना महामारी के कारण पूरे देश में हाहाकार मचा हुआ है। कई देश इस दुख की घड़ी में मदद करने के लिए अपने हाथ बढ़ा रहे हैं। एक ओर पड़ोसी चीन, भारत के पीएम को सहानुभूति व्यक्त करते हुए लिखता है और दुख की इस घड़ी में यथासंभव मदद करने का आश्वासन देता है। दूसरी ओर, पूर्वी लद्दाख में, दबा हुआ पैर एक बार फिर अपनी स्थिति को मजबूत करने की कोशिश कर रहा है।

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, पूर्वी लद्दाख में चीनी सेना ने एक बार अपनी उपस्थिति को मजबूत किया है। इसके अलावा, इसने पूर्वी लद्दाख के अंदरूनी हिस्सों में स्थायी आवास और डिपो बनाए हैं। यानी बातचीत के बीच चीन एक बार फिर आक्रामक अंदाज में दिखाई दे रहा है। फरवरी में वार्ता के बाद दोनों देशों ने जिस तरह से पैंगोंग त्सो से अपने सैनिकों को हटा लिया था, वह मामला धीरे-धीरे शांत होने की उम्मीद थी। चीनी सैनिक पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग झील के आसपास के क्षेत्र में तैनात थे। पिछले दिन, गतिरोध के महीनों के बाद, भारत और चीन लद्दाख में विवादित क्षेत्रों से पिछड़ने के लिए सहमत हुए। इसके साथ ही दोनों ओर से विघटन की प्रक्रिया शुरू हो गई थी।



मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीनी सैनिकों की तैनाती ने एक बार फिर सर्दी बढ़ा दी है। यानी चीनी सेना पुरानी स्थिति में लौट आई है। इतना ही नहीं, उन्होंने स्थायी निर्माण, आवास और सैन्य भवन भी बनाए हैं। फरवरी में हुए समझौते के अनुसार, फिंगर 4 में दोनों तरफ गश्त नहीं होगी। फिंगर 4 को नो पेट्रोलिंग जोन घोषित किया गया है। इसे चरणबद्ध तरीके से किया जाना है।