अर्मेनिया-अजरबैजान जंग: 5 हजार से ज्यादा मरे, World War का खतरा फिर मंडराया

Saturday, 24 Oct 2020 10:23:24 AM

नई दिल्ली। आर्मीनिया और अजरबैजान के बीच हुए युद्ध के दौरान एक बात ये भी देखने को मिली कि यहां सोशल मीडिया का भी गलत इस्तेमाल किया गया। सोशल प्लेटफॉर्म पर युद्ध की पुरानी तस्वीरें और अन्य चीजें शेयर करके युद्ध को भड़काने का काम किया गया। बीते सप्ताह के अंत में दोनों देशों के बीच दूसरी बार युद्धविराम पर सहमति बनी है, अब इसके बाद सैनिकों की लाशें लेने-देने और अन्य चीजों को सहेजने का काम किया जा रहा है।


अर्मेनिया और अजरबैजान इस प्रस्तावित बातचीत से पहले भी एक-दूसरे पर युद्ध भड़काने का आरोप लगाते हुए हमला जारी रखे हुए थे. दोनों देशों के अड़ियल रुख के चलते दुनिया पर एक बार फिर से विश्व युद्ध का खतरा मंडराने लगा है. इस बीच, रूस ने दावा किया है कि दोनों देशों की जंग में कम से कम 5,000 लोगों की मौत हुई है. रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) ने कहा कि नागोर्नो-काराबाख क्षेत्र को लेकर अजरबैजान और अर्मेनियाई सेना के बीच लड़ाई में लगभग 5,000 लोग मारे गए हैं.


एक बैठक में पुतिन ने कहा कि दोनों ही पक्षों के दो-दो हजार से ज्‍यादा लोग मारे गए हैं. उन्‍होंने यह भी कहा कि रूस की तरफ से दोनों देशों के बीच शांति स्थापित करने के लिए कई प्रयास किये गए मगर बात नहीं बनी. वही, नागोर्नो-काराबाख का कहना है कि 27 सितंबर से अब तक उसके 874 सैनिक मारे गए हैं और 37 आम नागरिकों की मौत हुई है. जबकि अजरबैजान ने कहा है कि उसके 61 नागरिक मारे गए हैं और 291 घायल हो गए हैं.