SBI: कोरोना के बीच एसबीआई ने करोड़ों ग्राहकों को दी है बड़ी राहत

Monday, 03 May 2021 09:45:50 AM

कोरोना महामारी की दूसरी लहर में, देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने स्थानीय लॉकडाउन के कारण ग्राहकों को होने वाली समस्याओं को देखते हुए मेल के माध्यम से केवाईसी दस्तावेज जमा करने की अनुमति दी है। एसबीआई ने 30 अप्रैल को अपने सभी 17 स्थानीय मुख्य कार्यालयों के मुख्य महाप्रबंधकों को एक बार फिर संचार में कोरोना संक्रमण के मामलों में वृद्धि के रूप में शाखा में ग्राहक की प्रत्यक्ष उपस्थिति के बिना डाक या मेल के माध्यम से केवाईसी दस्तावेज़ अनुरोध स्वीकार करने की सलाह दी।

ऐसा ही अब सार्वजनिक क्षेत्र के अन्य बैंकों द्वारा किए जाने की उम्मीद है। केवाईसी अपडेट उच्च जोखिम वाले ग्राहकों को दो साल में कम से कम एक बार, मध्यम जोखिम वाले ग्राहकों को 8 साल में और कम जोखिम वाले ग्राहकों को हर 10 साल में एक बार करना पड़ता है। कई राज्यों में स्थानीय प्रतिबंध या लॉकडाउन के मद्देनजर डाक द्वारा शाखाओं में डाक द्वारा भेजकर केवाईसी को अद्यतन किया जा सकता है।



यह भी सुनिश्चित करने के लिए कहा गया था कि केवाईसी अपडेट न होने के कारण 31 मई तक ग्राहक खाते आंशिक रूप से बंद न हों। ये निर्देश तत्काल प्रभाव से लागू हैं। बैंक ने इस समस्या के समय अपने सभी ग्राहकों को एक टोल-फ्री नंबर ट्वीट किया है। एसबीआई के अनुसार, इस मुश्किल समय में शाखाओं को आने की जरूरत नहीं है। आपका ज्यादातर काम इस टोल-फ्री नंबर से होगा। बैंक का टोल-फ्री नंबर 1800 112 211 और 1800 425 3800 है।