Petrol-Diesel को जीएसटी के दायरे में लाया जाएगा? वित्त मंत्री सीतारमण का बयान

Wednesday, 21 Jul 2021 11:52:55 AM

नई दिल्ली: वित्त मंत्रालय ने आज संसद के ऊपरी सदन में कहा कि जीएसटी परिषद ने अभी तक पेट्रोल और डीजल को जीएसटी के दायरे में लाने की कोई सिफारिश नहीं की है। वित्त मंत्रालय ने स्पष्ट रूप से कहा है कि पेट्रोलियम पर उत्पाद शुल्क का उपयोग बुनियादी ढांचे और विकास कार्यों के लिए किया जाता है। यह फैसला मौजूदा वित्तीय स्थिति को देखते हुए लिया गया है।

इससे पहले सोमवार को लोकसभा में पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री रामेश्वर तेली ने कहा कि जीएसटी परिषद ने अभी तक तेल और गैस को जीएसटी के दायरे में शामिल करने की सिफारिश नहीं की है। इसलिए पेट्रोलियम को अब जीएसटी के दायरे से बाहर रखा जाएगा। उन्होंने इस बारे में लिखित में संसद को सूचित किया है। रामेश्वर तेली ने लोकसभा को पेट्रोल और डीजल पर उत्पाद शुल्क से होने वाली आय की भी जानकारी दी है.


Infy ​​2020-21 में पेट्रोल और डीजल पर केंद्र सरकार का टैक्स 88 फीसदी बढ़कर 3.35 लाख करोड़ हो गया है। पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क 19.98 रुपये से बढ़ाकर 32.90 रुपये कर दिया गया है। डीजल पर आयात शुल्क 15.83 रुपये से बढ़ाकर 31.80 रुपये कर दिया गया है।