इन मांगों को लेकर 22 अक्टूबर को हड़ताल पर जा सकते है ओला-उबर कैब ड्राइवर्स

Wednesday, 10 Oct 2018 09:51:47 AM

नई दिल्ली। मंगलवार को ओला और उबार कैब का इस्तेमाल करने वाले यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा क्योंकि इन कैब एग्रीगेटर्स के कुछ ड्राइवर-पार्टनर हड़ताल पर चले गए थे। इसके अलावा अगर किराये को बढ़ाने और केवाईसी (नो योर कस्टमर) वेरिफिकेशन के संबंध में उनकी मांग पूरी नहीं की गई तो ड्राइवरों ने 22 अक्टूबर को बड़े आंदोलन की चेतावनी भी दी है। 

कैब ड्राइवर्स के अनुसार पिछले कुछ दिनों में ऐसे कई मामले सामने आये है जब यात्रियों ने कैब ड्राइवर्स पर हमला किया है और नशे में होने की वजह से गाली-गलौच भी की है। इसलिए हमें लगता है कि केवायसी सत्यापन के द्वारा उनकी पहचान की जानी चाहिए। ऐसी स्थिति में सिर्फ ड्राइवर्स पर ही नजर क्यों रखी जाए ?

हड़ताल कर रहे ड्राइवर्स की मुख्य मांग किराये को 16 रूपये प्रति किलोमीटर तक बढ़ाना है। वे यह भी चाहते हैं कि उनकी गाड़ियों में स्पीड गवर्नर्स को हटा दिया जाए। ड्राइवर्स के अनुसार प्रतिदिन 200 किमी की दूरी सीमा तुरंत समाप्त होनी चाहिए और जिन ड्राइवर्स को इनके लिए जुर्माना भरना पड़ा उन्हें पैसे वापिस किये जाए और हटाए गए ड्राइवर्स को फिर से नौकरी पर रखा जाए। 

कैब ड्राइवर्स द्वारा की जा रही मांगों में एक मांग यह भी है कि कंपनी को ड्राइवर से नहीं बल्कि यात्री से अपना कमीशन लेना चाहिए। इसके अलावा कार की डेली इन्स्टालमेन्ट को भी कम करना चाहिए और चालक के साथ समझौता खत्म होने तक गाड़ी को वापिस नहीं लेना चाहिए। वे यह भी चाहते हैं कि कंपनियां ड्राइवरों और उनके ईएसआई / स्वास्थ्य कार्ड के बीमा की व्यवस्था भी करें।

loading...