मारुति सुजुकी को जून तिमाही में 249 करोड़ रुपये का हुआ नुकसान

Thursday, 30 Jul 2020 01:18:02 PM

नई दिल्ली। मारुति सुजुकी इंडिया को 17 साल बाद किसी तिमाही में पहली बार घाटा हुआ है। कंपनी को 2020-21 की अप्रैल-जून तिमाही में 268.3 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ है। यह जुलाई, 2003 में कंपनी के सूचीबद्ध होने के बाद पहला ऐसा मौका है। 2019-20 की जून तिमाही में मारुति को कुल 1,376.8 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ था। बता दे की कोरोना संक्रमण की वजह से बुरी तरह मुश्किल में फंसी अर्थव्यवस्था का संकट गहराता जा रहा है. इस दौर में कई दिग्गज कंपनियां भी मुश्किल में फंसी हुई. अब तक बेहतर मुनाफा कमा रही देश की सबसे बड़ी वाहन निर्माता कंपनी मारुति सुजुकी को 2003 के बाद पहली बार घाटे का सामना करना पड़ा है।


देश भर में लॉकडाउन की वजह से मारुति सुजुकी के संयंत्रों में उत्पादन रुकने का कंपनी पर काफी असर पड़ा है और इस वजह से जून तिमाही में कंपनी को 249.4 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ है। पिछले वर्ष की समान अवधि में कंपनी को 1,435.50 करोड़ रुपये का शुद्ध मुनाफा हुआ था. पिछले 17 साल में कंपनी को पहली बार किसी तिमाही में घाटा हुआ है.बीते साल कंपनी को अप्रैल से जून तिमाही के दौरान ही 1436 करोड़ रुपये का लाभ हुआ था। इस लिहाज से देखें तो बीते साल की तुलना में इस साल कंपनी का कारोबार बुरी तरह से प्रभावित हुआ है।

कंपनी ने कहा कि अप्रैल-जून 2020 तिमाही में उसकी कुल बिक्री 3,677.5 करोड़ रुपये रही जो कि एक साल पहले की इसी तिमाही में 18,735.2 करोड़ रुपये रही थी। चालू वित्त वर्ष की इस पहली तिमाही में कंपनी ने कुल 76,599 वाहनों की बिक्री की। इसमें से 67,027 वाहन घरेलू बाजार में बेचे गए, जबकि 9,572 कारों का निर्यात किया गया। वहीं पिछले साल इसी तिमाही की यदि बात की जाए तो कंपनी ने कुल 4,02,594 वाहन बेचे थे। कंपनी ने कहा, ‘वैश्विक महामारी कोविड- 19 के चलते कंपनी के इतिहास की यह अप्रत्याशित तिमाही रही। सरकार द्वारा लागू ‘लॉकडाउन’ का पालन करते हुये इस तिमाही के बड़े हिस्से में कंपनी के कारखानों में न तो कोई उत्पादन हुआ और न ही कोई बिक्री हुई।

loading...