तेजी से रिकवर कर रही भारतीय इकॉनमी, मैन्युफैक्चरिंग एक्टिविटी में आया जबरदस्त उछाल

Monday, 02 Aug 2021 12:56:18 PM

नई दिल्ली: कोरोना महामारी की दूसरी लहर के बाद जुलाई में आर्थिक गतिविधियों में सुधार दिख रहा है. जुलाई महीने में भारत का मैन्युफैक्चरिंग इंडेक्स 55.3 रहा। देश के विभिन्न हिस्सों में स्थानीय लॉकडाउन के कारण जून में सूचकांक 48.1 पर रहा। यह सूचकांक विकास को दर्शाता है जब यह 50 से ऊपर होता है, जबकि 50 से नीचे यह गिरावट का प्रतिनिधित्व करता है।

जुलाई महीने में GST कलेक्‍शन एक बार फिर एक लाख करोड़ को पार कर गया. केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ट्वीट किया कि "यह स्पष्ट रूप से दर्शाता है कि अर्थव्यवस्था में तेजी से सुधार हो रहा है। जुलाई के महीने में, जीएसटी संग्रह 1 लाख 16 हजार 393 करोड़ था। इसने वार्षिक आधार पर 33 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की।" लगातार आठ महीने जीएसटी कलेक्शन 1 लाख करोड़ था, लेकिन जून महीने में यह 92,849 करोड़ था।


वहीं, जुलाई में बिजली की खपत भी महामारी पूर्व स्तर पर पहुंच गई। लॉकडाउन में ढील और मानसून में देरी के कारण जुलाई में देश की बिजली खपत लगभग 12 प्रतिशत बढ़कर 125.51 अरब यूनिट (बीयू) हो गई। यह महामारी लगभग प्री-लेवल के बराबर है। बिजली मंत्रालय (बिजली मंत्रालय) के आंकड़ों से यह खुलासा हुआ है। जुलाई 2020 में बिजली की खपत 112.14 अरब यूनिट रही। यह महामारी से पहले यानी जुलाई 2019 के 116.48 अरब यूनिट के आंकड़े से कुछ ही कम है।