स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ कितने नेता अखिलेश की ‘फौज’ में होंगे शामिल

 
Shivraj
नई दिल्ली. स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ उनके कई समर्थक विधायक सपा में शामिल हो सकते हैं। हाल ही में उत्तरप्रदेश के योगी मंत्रिमंडल से इस्तीफा देने वाले स्वामी प्रसाद मौर्य आज अपने समर्थकों के साथ अखिलेश यादव की फ़ौज में शामिल होंगे। समर्थकों ने अखिलेश यादव और मौर्य की तस्वीर वाले पोस्टर हाथ में थामे हुए हैं। समाजवादी पार्टी में शामिल होने से पहले उनके घर के बाहर समर्थकों की भीड़ लगी हुई है। 
उत्तरप्रदेश के प्रतापगढ़ के रहने वाले स्वामी प्रसाद मौर्य तीस सालों से भी अधिक समय से राज्य की राजनीति में सक्रिय है। ओबीसी समुदाय में और ख़ास तौर पर कुशवाहा समुदाय में उनकी अच्छी खासी पकड़ है। मौर्य ने 1996 में पहली बार बसपा के टिकट पर विधानसभा चुनाव जीता था। इसके बाद वे 2007 का चुनाव हार गए लेकिन मायावती ने उन्हें अपनी सरकार में मंत्री बनाया।
Swami
समाजवादी पार्टी में शामिल होने से पहले स्वामी प्रसाद मौर्य ने ट्वीट करते हुए लिखा कि 14 जनवरी, मकर संक्रांति, स्वामी का बजा बिगुल क्रांति। बीजेपी का टूटा है भ्रांति, भाजपा अंत का है शंखनादि। इससे पहले उन्होंने आरएसएस और भाजपा पर हमला बोलते हुए भी ट्वीट किया था। मौर्य ने ट्वीट करते हुए लिखा था कि नाग रूपी आरएसएस एवं सांप रूपी भाजपा को स्वामी रूपी नेवला यूपी से खत्म करके ही दम लेगा। 2016 के अंत में उन्होंने मायावती का साथ छोड़ दिया और भाजपा में शामिल हो गए। साल 2017 में उन्होंने विधानसभा का चुनाव जीता और योगी सरकार में मंत्री बने।
स्वामी प्रसाद मौर्य के इस्तीफा देने के बाद उनके कई समर्थक विधायकों ने भी भाजपा छोड़ दिया है। मौर्य के इस्तीफा के बाद भाजपा विधायक ब्रजेश प्रजापति, विधायक भगवती सागर, विधायक रौशन लाल, विधायक विनय शाक्य, विधायक बाला अवस्थी और विधायक मुकेश वर्मा ने भी इस्तीफा दिया। इतना ही नहीं मौर्य के अलावा दो और मंत्री भी योगी कैबिनेट से इस्तीफा दे चुके हैं। इतना ही नहीं साल 2019 में उनकी बेटी संघमित्रा मौर्य ने भाजपा के टिकट पर बदायूं से लोकसभा का चुनाव लड़ा और सपा उम्मीदवार धर्मेंद्र यादव को हराया। हालांकि संघमित्रा मौर्य अभी भी भाजपा में है।