आरजेडी की वापसी का किया दावा, तेज प्रताप यादव बोले खरमास के बाद तेजस्वी बनेंगे मुख्यमंत्री

 
Tej Pratap Yadav
नई दिल्ली. बिहार में राष्ट्रीय जनता दल के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव ने कहा है कि बिहार के भविष्य के लिए जेडीयू और आरजेडी को साथ आना चाहिए। बिहार में जो होने वाला है, उसे देखकर भाजपा और आरएसएस दंग रह जाएंगे। मैं पहले से ही जनता को बता दे रहा हूं।” उन्होंने कहा कि “खेला तो होगा, बहुत जबर्दस्त होगा। भाजपा की आंख फटी की फटी रह जाएगी। उन्होंने ऐलान किया कि “खरमास के बाद बड़ा खेला होने जा रहा है। राज्य की सत्ता में आरजेडी की वापसी होने जा रही है। 
Tej Pratap Yadav
 उन्होंने कहा कि बिहार की भलाई के लिए अगर हमें सोचना है तो जेडीयू को साथ लाना होगा। कहा कि अगर वह गड़बड़ काम करेगी तो हम उनके साथ नहीं जाएंगे, अगर वह अच्छा काम करेगी, गरीबों की भलाई करेगी, नौजवानों को रोजगार देगी तो हम उनके साथ रहेंगे। तेज प्रताप ने कहा कि “उनका मानना है कि सबको साथ लेकर चलना चाहिए। अगर आरजेडी और जेडीयू एक साथ आती है तो भी तेजस्वी यादव ही बिहार के सीएम होंगे। कहा जा रहा था कि तेजस्वी यादव और तेज प्रताप में बातचीत तक नहीं हो रही थी। माहौल इतना खराब हो गया था कि लालू प्रसाद यादव को हस्तक्षेप करने के लिए पटना आना पड़ा था। अब तेज प्रताप अपने भाई तेजस्वी यादव को सीएम बनने की बात कह रहे हैं, जबकि कुछ महीने पहले दोनों के बीच संबंध खराब हो गए थे।
 पार्टी के पोस्टरों में भी अब तेजस्वी यादव के साथ तेज प्रताप भी दिखने लगे हैं। बाद में घर के झगड़े घर में ही सुलझा लें तो घर बर्बाद नहीं होता की तर्ज पर यह मामला सुलझ गया था। बिहार के राजनीतिक परिवार में इस मतभेद को पिता लालू प्रसाद यादव ने खत्म करा दिया था। इसी के साथ दोनों के साथ-साथ काम करने की सहमति से पार्टी टूटने का खतरा भी खत्म हो गया। बात घर के बाहर आई तो राजनीतिक हलके में चर्चा का विषय बन गया। पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव जब जेल में थे, तभी से उनके बेटे तेज प्रताप यादव और तेजस्वी यादव के बीच कुछ मनमुटाव जैसा हो गया था। बाद में पिता के छोटे बेटे तेजस्वी यादव की तरफ बोलने से बड़े बेटे और पिता में भी नाराजगी का भाव आ गया था।