"हामिद अंसारी ने एक पाकिस्तानी पत्रकार को 5 बार भारत क्यों बुलाया?"

 
vv

नई दिल्ली: यूपीए सरकार के दौरान तत्कालीन उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी के निमंत्रण पर भारत आने वाली पाकिस्तानी पत्रकार नुसरत मिर्जा के चौंकाने वाले दावे के बाद भारत में प्रतिक्रियाओं का सिलसिला शुरू हो गया है. इसी क्रम में बीजेपी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कई सवाल खड़े किए हैं. भाजपा प्रवक्ता गौरव भाटिया ने कहा, 'कांग्रेस को न केवल यह स्पष्ट करना चाहिए कि आतंकवाद पर उसकी नीति क्या थी बल्कि यह भी जवाब देना चाहिए कि पूर्व उपराष्ट्रपति ने पांच बार पाकिस्तानी पत्रकार को क्यों आमंत्रित किया था।'

एक यूट्यूब साक्षात्कार में, वरिष्ठ पाकिस्तानी पत्रकार नुसरत मिर्जा ने हाल ही में दावा किया कि उन्होंने 2005 और 2011 के बीच कई बार भारत का दौरा किया और यहां से उन्होंने खुफिया जानकारी एकत्र की और इसे पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई को बताया। उन्होंने यह भी कहा है कि तत्कालीन उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने उन्हें करीब पांच बार भारत आने का न्योता दिया था। उस समय भारत में 56 मुस्लिम सांसद थे, जो उनके (नुसरत मिर्जा के) मददगार थे। साथ ही उन्हें सामान्य अनुमति से अधिक शहरों की यात्रा करने की अनुमति दी गई।


 
इस बयान के बाद भाजपा ने बुधवार को कहा कि कांग्रेस पार्टी को स्पष्ट करना चाहिए कि आतंकवाद से निपटने की उसकी नीति क्या है। उपराष्ट्रपति द्वारा पाकिस्तानी पत्रकार को पांच बार भारत क्यों आमंत्रित किया गया था? मीडिया को संबोधित करते हुए भाजपा प्रवक्ता गौरव भाटिया ने कहा कि हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि उपराष्ट्रपति का पद संवैधानिक होता है और ऐसे कई मुद्दे हैं जिन्हें वह साझा नहीं कर सकते क्योंकि वे देश की सुरक्षा से संबंधित हैं।