नेशनल हेराल्ड मामले में बढ़ी सोनिया गांधी की मुश्किलें, ईडी ने की सख्ती

 
bb

नई दिल्ली: कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी नेशनल हेराल्ड से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में 21 जुलाई को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की जांच टीम के सामने पेश होंगी. जांच एजेंसी की ओर से कांग्रेस नेता सोनिया गांधी को तारीख पर पेश होने को कहा गया है. इस मामले में ईडी की टीम कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और केरल की वायनाड सीट से लोकसभा सांसद राहुल गांधी से लगातार कई दिनों तक पूछताछ कर चुकी है.

इससे पहले कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को जून में जांच एजेंसी के सामने पेश होना था। लेकिन, सोनिया को कोरोना संक्रमण के चलते अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। ऐसे में उन्होंने जांच एजेंसी की टीम से 4 हफ्ते का एक्सटेंशन मांगा था. यह समय 22 जुलाई को समाप्त होने जा रहा है।
 
क्या है नेशनल हेराल्ड केस?

बीजेपी के राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने नेशनल हेराल्ड मामले में सोनिया गांधी, राहुल गांधी, दिवंगत नेता मोतीलाल वोरा, पत्रकार सुमन दुबे और टेक्नोक्रेट सैम पित्रोदा पर बेबुनियाद आरोप लगाए थे. उन्होंने आरोप लगाया कि यंग इंडिया लिमिटेड के माध्यम से इसे गलत तरीके से हासिल किया गया था और कांग्रेस नेताओं ने 2,000 करोड़ रुपये तक की संपत्ति हड़प ली थी। मामले की जांच 2014 में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा शुरू की गई थी। कांग्रेस कहती रही है कि यंग इंडिया लिमिटेड का उद्देश्य लाभ कमाना नहीं है बल्कि इसे चैरिटी के लिए बनाया गया है।