कर्नाटक में बोले पीएम मोदी- 'सुशासन और सद्भाव की राह पर राज्य सरकार'

 
ww

कलबुर्गी: पीएम नरेंद्र मोदी महाराष्ट्र और कर्नाटक के दौरे पर हैं. वहां उन्होंने करोड़ों के विकास कार्यों की सौगात दी है। पीएम नरेंद्र मोदी ने कर्नाटक के अपने दौरे के दौरान राज्य के कलाबुरगी जिले में पारंपरिक ढोल बजाया। दरअसल, प्रधानमंत्री देश-विदेश में जहां भी जाते हैं, पारंपरिक वाद्य यंत्रों को देखने से खुद को रोक नहीं पाते। दरअसल, सांस्कृतिक वाद्य यंत्रों में एक आनंद छिपा है, जो विभिन्न संस्कृतियों को जोड़ने का काम करता है। प्रधानमंत्री मोदी इस बात को बखूबी जानते हैं।

गुरुवार को उन्होंने कर्नाटक के कलाबुरगी जिले में ढोल बजाया। इसी तरह वे कई मौकों पर ढोल या नगाड़ा बजाकर अपना उत्साह जाहिर कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि कर्नाटक सरकार ने सुशासन और सौहार्द का वह रास्ता चुना है जो सदियों पहले भगवान बसवेश्वर ने देश और दुनिया को दिया था। भगवान बसवेश्वर ने अनुभव मंडपम जैसे मंच से दुनिया को सामाजिक न्याय और लोकतंत्र का मॉडल दिया। उन्होंने समाज के सभी भेदभावों से ऊपर उठकर हमें सबके सशक्तिकरण का रास्ता दिखाया था।

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि दलित, पिछड़ा, आदिवासी सबसे बड़ा वर्ग है जिसने कभी बैंक का दरवाजा तक नहीं देखा. जन धन बैंक खातों ने करोड़ों वंचितों को बैंकों से जोड़ा है। पहले की सरकार कुछ ही वनोपजों पर MSP देती थी, जबकि हमारी सरकार 90 से अधिक वनोपजों पर MSP दे रही है। कर्नाटक सरकार के फैसले के बाद अब टांडा में रहने वाले सभी परिवारों को भी इसका लाभ मिलेगा.