इंदौर में पीएफआई के ठिकानों पर एनआईए का छापा, 3 गिरफ्तार

 
dd

इंदौर: राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की टीम ने मध्य प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर और उज्जैन में कट्टरपंथी इस्लामी संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के परिसरों में छापेमारी की. इस बीच एनआईए ने पीएफआई के तीन नेताओं को इंदौर से गिरफ्तार किया है। अतिरिक्त पुलिस आयुक्त राजेश हिंगणकर ने कार्रवाई की पुष्टि की। एनआईए की टीम गुरुवार सुबह से देशभर में पीएफआई के ठिकानों पर छापेमारी कर रही है.

इस दौरान टेरर फंडिंग से जुड़े दस्तावेज समेत साहित्य मिलने की बात कही जा रही है। पीएफआई को खरगोन में हुए दंगों में शामिल बताया गया है। वहीं 17 फरवरी 2021 को उज्जैन में अपने स्थापना दिवस पर हुई बैठक में पीएफआई ने आपत्तिजनक भाषा का प्रयोग किया. जांच एजेंसियों ने करीब 10 राज्यों में कट्टरपंथी इस्लामिक संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया यानी पीएफआई के पदाधिकारियों के आवासों और कार्यालयों पर छापेमारी की है. वहीं, इस दौरान 100 से अधिक कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया है. खबर है कि इस कार्रवाई के बाद कर्नाटक, केरल में पार्टी कार्यकर्ताओं ने जमकर विरोध किया है. एनआईए ने आतंकी फंडिंग और प्रशिक्षण शिविरों के आयोजन में शामिल लोगों के आवासों और आधिकारिक परिसरों की तलाशी ली है।


मामले से परिचित सूत्रों के हवाले से यह भी खबर आई है कि जांच एजेंसियों ने करीब 10 राज्यों में राज्य पुलिस के सहयोग से 100 से ज्यादा कैडरों को गिरफ्तार किया है. दरअसल, पीएफआई के राज्य और जिला स्तर के नेताओं के घरों पर जांच एजेंसियों ने छापेमारी की है. वहीं इस बार भी एजेंसियों ने मलप्पुरम जिले के मंजेरी में पार्टी अध्यक्ष सलाम पारद पर शिकंजा कसा है. वहीं, सलाम के खिलाफ कार्रवाई के खिलाफ पार्टी कार्यकर्ताओं का धरना जारी है.