पश्चिमी विक्षोभ के शुरू होने से कैसा रहेगा आने वाला मौसम, देखे जानकारी…

 
s

इस साल नवंबर का महीना शुरु हो चुका है और धीरे-धीरे सर्दी भी बढ़ रही है. देखा जाए तो नवंबर का आधा महीना निकल चुका है और सर्दी का असर हर बार की तरह ज्यादा तेज दिखाई नहीं दे रहा है. अभी तक कड़ाके की सर्दी शुरू नहीं हुई है. मौसम वैज्ञानिकों ने बताया है कि इन दिनों एक नया पश्चिमी विक्षोभ बन रहा है और वह तैयार हो रहा है. इस पश्चिमी विक्षोभ के कारण सर्दी बढ़ सकती है और आने वाले समय में लोगों को ठंड महसूस हो सकती है. वैसे तो राजस्थान के मैदानी इलाकों में ठंडी ठंडी हवाएं चल रही हैं, जिससे लोगों को हल्की बहुत सर्दी महसूस हो रही है.

s

जयपुर मौसम विभाग के वैज्ञानिकों ने बताया है कि हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, राजस्थान और पंजाब में इस पश्चिमी विक्षोभ के कारण उत्तरी हवाएं तेज गति से चलने लगेगी जिससे सर्दी बढ़ने के आसार हैं. इसके अलावा मौसम वैज्ञानिकों ने यह भी बताया है कि इस सप्ताह है राजस्थान में न्यूनतम पारा 3 डिग्री सेल्सियस तक जा सकता है. इस तरह पारा गिरने के साथ ही सर्दी भी बढ़ेगी.

s

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार पश्चिमी विक्षोभ के कारण उत्तरी हवाओं का असर राजस्थान में भी पड़ा है. मौसम वैज्ञानिकों ने बताया है कि मौसम शुष्क और साफ बना रहेगा, लेकिन उत्तर से दक्षिण की तरफ हवाओं का दौर जारी रहेगा.पहाड़ी इलाकों से आने वाली इन हवाओं के कारण राजस्थान के मैदानी इलाकों में तापमान गिरने के साथ ही सर्दी बढ़ेगी.

मौसम विभाग ने ये भी बताया है कि आने वाले समय में पारा गिरने के कारण सर्दी में बढ़ोतरी होने की संभावना है. आने वाले समय में मौसम विभाग के अनुसार जयपुर चूरू और चित्तौड़गढ़ के साथ राज्य के 10 जिलों में तापमान गिरेगा और सबसे अधिक सर्दी महसूस की जाएगी. यहां तक कि फतेहपुर जिले का तापमान 8.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है. आपको बता दें कि हिमालय क्षेत्र में बर्फबारी हुई है और इस बर्फबारी के कारण पहाड़ी इलाकों से आने वाली हवाओं से अगले सप्ताह सर्दी का असर तेज हो जाएगा.