फडणवीस ने कहा, 'श्रद्धा की जान जिंदा होती अगर...' ​​​​​​​

 
d

श्रद्धा हत्याकांड में महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री और गृह मंत्री देवेंद्र फडणवीस का बड़ा बयान आया है. दरअसल, हाल ही में उन्होंने कहा कि उन्होंने श्रद्धा का शिकायती पत्र देखा है। इसी के साथ उन्होंने आगे कहा कि वह बेहद गंभीर हैं. अगर इस पर पहले कार्रवाई होती तो श्रद्धा जिंदा होती। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि वह इस मामले की जांच कराएंगे कि इस पत्र पर कोई कार्रवाई क्यों नहीं की गई। दरअसल, श्रद्धा ने नवंबर 2020 में मुंबई में आफताब के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी। इस दौरान उन्होंने आफताब को अपनी जान का खतरा बताया था और वहीं श्रद्धा ने कहा था कि आफताब उन्हें टुकड़े-टुकड़े करने की धमकी देता है।

अब इस पत्र को लेकर गृह मंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा, 'मुझे भी पत्र मिला है. मैंने देखा है। यह बेहद गंभीर है कि इस पर अब तक कोई कार्रवाई क्यों नहीं हुई। इसकी जांच होनी है। मैं किसी को दोष नहीं देना चाहता। लेकिन ऐसी शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। इसलिए इसकी जांच जरूरी है.' इसी के साथ उन्होंने कहा कि 'पत्र पर कार्रवाई होती तो श्रद्धा जिंदा होती.'

आपको बता दें कि श्रद्धा ने दो साल पहले आफताब के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। जी हाँ, और उस दौरान श्रद्धा ने अपनी शिकायत में आफताब से कहा था कि उनकी जान को खतरा है. इतना ही नहीं श्रद्धा ने यहां तक ​​दावा किया था कि आफताब ने उनके शरीर के टुकड़े-टुकड़े करने की धमकी दी थी। आपको बता दें कि श्रद्धा ने मुंबई के तुलिंज थाने में यह शिकायत दी थी।

इसके साथ ही श्रद्धा ने आफताब के खिलाफ शिकायत में कहा था, 'वह मुझे गालियां देता है और मारपीट करता है। आज उसने मुझे मारने की कोशिश की। वह मुझे धमकी देता है कि वह मेरे शरीर के टुकड़े-टुकड़े कर देगा और जंगल में फेंक देगा। वह पिछले 6 महीने से मेरे साथ मारपीट कर रहा है। वह मुझे जान से मारने की धमकी देता है, इसलिए मैं पुलिस के पास नहीं जा सका। उसके रिश्तेदारों को भी पता है कि वह मुझे मारता पीटता था और जान से मारने की कोशिश करता था.' इसी के साथ श्रद्धा ने आगे लिखा कि 'अब मैं उनके साथ नहीं रहना चाहती. वह मुझे ब्लैकमेल करता है, इसलिए अगर मुझे कुछ होता है, तो वह इसके लिए जिम्मेदार होगा।'