आगरा-मथुरा-काशी... जानिए मंदिर-मस्जिद केस में आज कोर्ट ने क्या दिए आदेश?

 
vv

लखनऊ: वाराणसी में ज्ञानवापी विवादित ढांचे को लेकर कोर्ट ने बड़ा फैसला दिया है. कोर्ट ने ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे के लिए नियुक्त एडवोकेट कमिश्नर अजय कुमार मिश्रा को हटाने से साफ इनकार कर दिया है. हालांकि कोर्ट ने एडवोकेट कमिश्नर के साथ दो और वकीलों को सर्वे कमेटी में शामिल किया है. इसके साथ ही कोर्ट ने 17 मई से पहले ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वे पूरा करने का आदेश दिया है. कोर्ट ने 17 मई को सर्वे की अगली रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया है.

दरअसल, अंजुमन व्यवस्था मस्जिद कमेटी की ओर से एक याचिका दायर कर एडवोकेट कमिश्नर अजय कुमार मिश्रा को हटाने की मांग की गई थी. इस पर 3 दिन तक चलने के बाद वाराणसी के सिविल जज सीनियर डिवीजन रवि कुमार दिवाकर ने 11 मई को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था. इससे पहले 5 महिलाओं ने याचिका दायर करते हुए श्रृंगार गौरी की दैनिक पूजा का अधिकार मांगा था. कोर्ट ने इस मामले में सुनवाई के बाद ज्ञानवापी विवादित ढांचे के सर्वे के आदेश दिए थे. साथ ही एडवोकेट कमिश्नर नियुक्त किया गया। लेकिन सर्वे के दौरान मुस्लिम भीड़ ने ज्ञानवापी परिसर में हंगामा कर दिया. जिससे सर्वे नहीं हो सका।


 
मथुरा मामले में भी आया फैसला :-

मथुरा श्रीकृष्ण जन्मभूमि विवाद मामले में गुरुवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट में सुनवाई हुई. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने मथुरा कोर्ट को निर्देश दिया है कि सभी याचिकाओं का निपटारा अधिकतम 4 महीने में किया जाए. इसके साथ ही हाईकोर्ट ने सुन्नी वक्फ बोर्ड और अन्य पक्षों को सुनवाई में शामिल नहीं होने पर एकतरफा आदेश जारी करने का भी निर्देश दिया है. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने भगवान श्रीकृष्ण विराजमान के वादक मित्र मनीष यादव की याचिका पर सुनवाई करते हुए यह फैसला दिया है.