Stephen Hawking: हॉकिंग ने बड़े डॉक्टरों की भविष्यवाणी को किया गलत

 
lifestyle

दुनिया के महानतम वैज्ञानिकों में से एक स्टीफन हॉकिंग, जिनका 80वां जन्मदिन अब दुनिया में नहीं है, उनके द्वारा दिए गए सिद्धांत और विचार आज भी वैज्ञानिकों के लिए प्रेरणा बने हुए हैं। उनका जन्म आज ही के दिन 1942 में हुआ था। उन्हें मोटर न्यूरॉन नाम की बीमारी थी। उन्हें 21 साल की उम्र में इस भयानक बीमारी का पता चला था। यह रोग धीरे-धीरे मनुष्य के तंत्रिका तंत्र को नष्ट कर देता है और शरीर की गति और संचार शक्ति को समाप्त कर देता है। डॉक्टरों ने यह भी कहा था कि वे दो साल से ज्यादा नहीं जी पाएंगे। लेकिन स्टीफन हॉकिंग पूरे 76 साल तक जीवित रहे और डॉक्टरों की भविष्यवाणी को गलत साबित कर दिया।

बता दें, स्टीफन हॉकिंग के शरीर का कोई भी हिस्सा उनके दिमाग के अलावा काम नहीं करता था। शारीरिक अक्षमता के बाद भी वह दुनिया के सबसे महत्वपूर्ण वैज्ञानिकों में से एक हैं। स्टीफन हॉकिंग एक विश्व वैज्ञानिक हैं जिन्होंने बहुत सारे शोध करके ब्रह्मांड के बारे में अनोखे रहस्यों का खुलासा किया है। जिसमें मुख्य रूप से ब्लैक होल शामिल हैं। हॉकिंग के शोध से पहले ब्लैक होल पूरी तरह से अज्ञात और रहस्यमयी पिंड हुआ करते थे।


 
1971 में पहले ब्लैक होल की खोज के बाद, हॉकिंग ने इन पिंडों के बारे में कई खगोलीय जानकारी दी जिससे उनके बारे में जानकारी को समझाने में मदद मिली। ब्लैक होल को पहले कहा गया था कि वे किसी भी विकिरण का उत्सर्जन नहीं करते हैं, और विकिरण के बिना कोई एन्ट्रापी नहीं हो सकती है। लेकिन तब हॉकिंग ने पहली बार दिखाया कि यदि क्वांटम यांत्रिकी को शामिल कर लिया जाए, तो यह दिखाया जा सकता है कि ब्लैक होल पूर्ण रूप से ब्लैक नहीं होते बल्कि वे उत्सर्जित भी होते हैं।