Health Tips: काढ़ा बनाते वक्त ये गलतियां करते हैं लोग, और बिगड़ जाती है तबियत

 
lifestyle

हमारा इम्यून सिस्टम शरीर को बीमारियों से लड़ने की ताकत देने वाला है। नतीजतन, डॉक्टरों ने लोगों को ऐसे शराब पीने की सलाह देना शुरू कर दिया है जो प्रतिरक्षा में सुधार करते हैं क्योंकि कोरोनावायरस का खतरा बढ़ जाता है। दरअसल, डॉक्टरों का कहना है कि काढ़ा बनाते समय कई बार लोग ऐसी गलतियां कर बैठते हैं जो शरीर पर प्रतिकूल प्रभाव डालती हैं. हां, क्योंकि अगर सही मात्रा में लाभकारी तत्वों का ध्यान नहीं रखा गया तो रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले काढ़े भी भुगत सकते हैं। अब आज हम आपको उसी के बारे में बताने जा रहे हैं।

* जानकारों का कहना है कि काढ़ा पीने वालों की उम्र, मौसम और सेहत पर नजर रखना बेहद जरूरी है। ऐसे में कमजोर स्वास्थ्य वाले लोग जो नियमित रूप से काढ़ा पीते हैं उन्हें कई बड़ी समस्याएं हो सकती हैं। जैसे कि नाक से खून बहना, मुंह के छाले, एसिडिटी, पेशाब की समस्या और पाचन संबंधी समस्याएं। अगर ऐसा है तो तुरंत डॉक्टर को दिखाएं।

xx
 
* काढ़ा बनाने में लोग अक्सर काली मिर्च, दालचीनी, हल्दी, गिलोय, अश्वगंधा, इलायची और सोंठ का इस्तेमाल करते हैं. ये सभी चीजें आपके शरीर को बहुत गर्म बनाती हैं। ऐसे में शरीर का तापमान अचानक बढ़ने से नाक से खून बहने या एसिडिटी जैसी समस्या हो सकती है। इनका प्रयोग कम करें।

* काढ़ा बनाने के लिए आप जिस सामग्री का उपयोग कर रहे हैं, उसकी मात्रा में संतुलन रखें। काढ़ा पीने के बाद अगर आपको कोई परेशानी हो रही है तो दालचीनी, काली मिर्च, अश्वगंधा और सोंठ थोड़ी मात्रा में ही लें।

* सर्दी-जुकाम से पीड़ित लोगों के लिए काढ़ा वरदान है, हालांकि कुछ लोगों को इसमें बहुत सावधानी बरतनी चाहिए। खासकर उन लोगों को जिन्हें पित्त की शिकायत रहती है। जी हां, इन लोगों को काढ़े में काली मिर्च, सोंठ और दालचीनी का प्रयोग करते समय विशेष ध्यान रखना चाहिए।

ss

* यदि आप काढ़े का नियमित रूप से उपयोग नहीं कर रहे हैं तो इसे कम मात्रा में ही लेना सही रहेगा। इस बात का ध्यान रखें कि काढ़ा बनाते समय बर्तन में केवल 100 मिली पानी ही डालें। फिर आवश्यक चीजों को मिलाकर इसे तब तक उबालें जब तक काढ़ा 50 मिली यानि आधा न हो जाए।