Health News- क्या वास्तव में डिओडोरेंट स्तन कैंसर का कारण बनता है ? जानिए इसके पीछे की सच्चाई

 
Hs

हमने अक्सर देखा है कि लोग घर से बाहर निकलने से पहले अपने आप को सुंदर और अच्छा दिखाने के लिए ना जाने किन किन वस्तुओं का यूज करते हैँ। ऐसे लोग घर से बाहर निकलने से पहले परफ्यूम, डिओडोरेंट या अन्य परफ्यूम का इस्तेमाल करते है, ताकि वे दिन भर खुद को तरोताजा रख सकें। यह सामने वाले को पसीने की बदबू से भी बचाता है।

Hs

ऐसा वो लोग ज्यादा करते हैं जिनको पसीने से की बदबू की अधिक परेशानी होती हैँ। इस समस्या को दूर करने के लिए लोग महंगे से महंगे प्रोडक्ट का भी इस्तेमाल करते हैं। हमारे द्वारा उपयोग किए जाने वाले इन परफ्यूम उत्पादों में सबसे आम है डिओडोरेंट या एंटीपर्सपिरेंट।

इनका इस्तेमाल करते हुए लोग कभी यह नहीं सोचते है कि वो जिस डिओडोरेंट या एंटीपर्सपिरेंट का इस्तेमाल करते हैं, उससे कैंसर जैसी गंभीर बीमारी हो सकती है।

Hs

कई शोध से पता चला है कि हैं कि री-डिओडोरेंट्स या एंटीपर्सपिरेंट्स के अति प्रयोग से स्तन कैंसर हो सकता है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, ब्रेस्ट अंडरआर्म का सबसे करीबी हिस्सा होता है, जिससे कैंसर हो सकता है। लेकिन हर किसी के मन में यह सवाल होता है कि क्या डिओडोरेंट या एंटीपर्सपिरेंट्स के इस्तेमाल से वास्तव में ब्रेस्ट कैंसर का खतरा बढ़ जाता है? इस बात के बहुत कम प्रमाण हैं कि डिओडोरेंट्स और एंटीपर्सपिरेंट्स स्तन कैंसर के खतरे से जुड़े हैं।

एक रिपोर्ट के अनुसार, स्तन कैंसर से पीड़ित 813 महिलाओं की तुलना बिना स्तन कैंसर वाली 993 महिलाओं से की गई। रिपोर्ट में एंटीपर्सपिरेंट्स, डिओडोरेंट या अंडरआर्म शेविंग और स्तन कैंसर के बीच कोई संबंध नहीं पाया गया।