Vastu Tips: आप भी चाहते है की आपका घर हेमशा रहे खुशहाल, तो घर के पूजा मंदिर से जुड़े इन नियमों का रखे ध्यान !

 
Mandir
हिंदू धर्म शास्त्रों में पूजा स्थान को देव स्थान कहा गया है. अधिकांश घरों में पूजा मंदिर (Puja Mandir) या पूजन के लिए निश्चित स्थान जरूर होता है. मान्यता है कि वास्तु के अनुसार पूजा मंदिर होने पर घर-परिवार के लोग खुशहाल रहते हैं. जहां नियमित रूप से पूजा-अर्चना की जाती है. माना जाता है कि उस स्थान पर नियमित रूप से पूजा-अर्चना (Worship) करने पर देवताओं का वास होता है. माना जाता है कि इसी स्थान से पूरे घर में सकारात्मक ऊर्जा (Positive Energy) का संचार होता है. इस लेख के माध्यम से आपको बताएंगे कि वास्तु शास्त्र (Vastu Shastra) में घर के पूजा मंदिर (Puja Mandir) के लिए क्या - क्या नियम बताए गए हैं। आइए जानते है।
* वास्तु के मुताबिक कहां नहीं होना चाहिए पूजा मंदिर :
वास्तु शास्त्र के मुताबिक पूजा मंदिर या पूजा घर बाथरूम या किचन के पास नहीं होना चाहिए. साथ ही पूजा मंदिर बाथरूम या किचन से सटा हुआ भी नहीं होना चाहिए. इसके अलावा बेडरूम में भी पूजा मंदिर का होना शुभ नहीं माना गया है. सीढ़ियों के नीचे पूजा मंदिर होना भी वास्तु शास्त्र के विपरीत माना गया है।
Mandir
* पूजा मंदिर की ऊंचाई का रखें विशेष ध्यान :
कई घरों में पूजा मंदिर जमीन या फर्श पर होता है. जिसे वास्तु सम्मत नहीं माना जाता है. वास्तु शास्त्र के मुताबिक घर के पूजा मंदिर की ऊंचाई इतनी हो कि भगवान के पैर पूजा करने वाले के हृदय तक रहे।
* किस दिशा में रखें घर का पूजा मंदिर :
वास्तु शास्त्र के जानकारों का मानना है कि अगर ईशान कोण में मंदिर बनाना संभव ना हो तो पूरब में भी पूजा मंदिर का निर्माण किया जा सकता है। वास्तु शास्त्र के मुताबिक घर का पूजा मंदिर या पूजन स्थल ईशान कोण यानि उत्तर-पूर्व की दिशा में होना अच्छा माना गया है. कहा जाता है कि इस दिशा में सकारात्मक ऊर्जा का भंडार होता है. इसलिए इस दिशा को देव-दिशा भी करते हैं।
* पूजा के दौरान इस दिशा में रखें मुंह :
पूजा के लिए मंदिर की दिशा के अलावा अपनी दिशा का भी ध्यान रखा जाता है. धार्मिक मान्यतानुसार, पूजा करते वक्त पूरब दिशा की ओर अपना मुंह रखना शुभ होता है. अगर पूरब दिशा की ओर मुंह नहीं हो पा रहा हो तो पश्चिम दिशा भी शुभ मानी गई है. इन दोनों दिशाओं की ओर मुंह करके पूजा करना वास्तु के हिसाब से उचित माना जाता है।