महिला को बार-बार हो रहा है ब्लीडिंग', वजह जानकर डॉक्टर हैरान रह गए

 
dd

महिलाओं के लिए हर महीने होने वाले पीरियड्स बेहद दर्दनाक होते हैं। आम तौर पर महिलाओं को 2 से 7 दिन तक इससे गुजरना पड़ता है। लेकिन एक महिला ऐसी भी है जिसे करीब 3 महीने तक लगातार पीरियड्स के दर्द और समस्या से गुजरना पड़ा। अमेरिका के नॉर्थ कैरोलिना में रहने वाली एक महिला को 83 दिनों तक पीरियड्स आए। मामला इतना बिगड़ गया कि उसे खून चढ़ाने की जरूरत पड़ी। यह महिला पेशे से लेखिका हैं और इनका नाम रॉनी मे है। रॉनी ने बताया कि इन 83 दिनों के दौरान उन्हें किन-किन मुश्किलों का सामना करना पड़ा।

शुरुआत में तो डॉक्टर्स को भी रॉनी की ये बातें सुनकर इस बात पर यकीन नहीं हुआ। उन्होंने आपातकालीन कक्ष में उससे पूछा, 'क्या तुमने सच में इतना खून बहाया जितना तुम कह रही हो?' मिली एक रिपोर्ट के मुताबिक रॉनी ने बताया कि कई सालों तक उन्हें समय पर पीरियड्स नहीं आए, फिर साल 2015 में उन्हें पीसीओएस हो गया. यूं तो उन्हें हमेशा पीरियड्स के दौरान काफी ब्लीडिंग होती थी, लेकिन 2018 में एक दिन वह अपनी डेस्क से उठीं और खुद को खून से लथपथ पाया।


पीसीओएस में हार्मोन असंतुलन के कारण गर्भाशय की परत मोटी हो जाती है, जिसके दौरान लंबे समय तक हैवी पीरियड्स होते हैं। रॉनी ने कहा कि जब वह अपने बाथरूम से अपने डेस्क पर चलीं तो उन्हें खून बहने लगा। उसके बाद, वह काम से घर आई और एक घंटे में टैम्पोन का एक पूरा डिब्बा और पैड का एक पूरा पैकेट इस्तेमाल कर लिया। उसने दर्द कम करने के लिए हीटिंग पैड का इस्तेमाल करना शुरू किया लेकिन खून बहना बंद नहीं हो सका। इसके बाद उनके पास अस्पताल जाने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा था। अस्पताल में तरह-तरह के उपाय करने के बाद रॉनी को राहत मिली। फिर डॉक्टर ने उससे वही सवाल किया, क्या सच में तुम्हारा इतना खून बह रहा है? इसका जवाब देते हुए उन्होंने कहा, 'एक अश्वेत महिला होने के नाते डॉक्टर मुझ पर विश्वास नहीं करते.' वह घर जाने से डर रही थी इसलिए उसे दो सप्ताह तक अस्पताल में रहना पड़ा। इस वजह से रॉनी को कई बार पैनिक अटैक आए। उसकी हृदय गति और रक्तचाप भी बढ़ गया। उसे ब्लड ट्रांसफ्यूजन की भी जरूरत थी। बाद में उन्हें एक शल्य प्रक्रिया से गुजरना पड़ा।