Health Tips: अगर आपके है हाथ- पैरों की उंगलियों में सूजन, हो सकती हैं ये 5 बीमारियां

 
Per
हाथ और पैरों की उंगलियों में सूजन (Swollen Fingers) के कारण काफी लोग परेशान रहते हैं। हाथ और पैरों का तापमान ज्यादा ठंडा होने के कारण खून जमने लगता है. जिसके कारण ब्लड सर्कुलेशन काफी धीमा हो जाता है. ऐसे में हाथ और पैरों का लंबे समय तक ठंडे रहने पर उनमें ब्लड सर्कुलेशन बेहद कम हो जाता है। ये किसी गंभीर बीमारी का संकेत तो नहीं. लेकिन कई बार उंगलियों में सूजन के कारण कुछ और ही होते हैं। आइये जानते है की किन -किन बीमारियों के कारण हाथ - पैर की उंगलियों में सूजन आ सकती है। 
* संक्रमण के कारण :
शरीर में कई संक्रमण फैलने की वजह से भी उंगलियों में सूजन की शिकायत हो सकती है. जिसमें हर्पेटिक व्हाइटलो (Herpetic whitlow), पारोनीचिया (Paronychia), फेलन (Felon) संक्रमण शामिल है. उंगलियों में इन संक्रमण के फैलने से आपकी उंगलियों में सूजन के साथ-साथ कई तरह के लक्षण दिख सकते हैं. जैसे- मवाद के साथ-साथ दर्द होना, दाद नुमा संक्रमण, खूनी फफोले इत्यादि हो सकते हैं। 
Per
* ट्रिगर फिंगर हो जाना :
ट्रिगर फिंगर से ग्रसित व्यक्तियों की उंगली में अकड़न आ जाती है. 68.6 जिसकी वजह से टेंडॉन में सूजन हो सकती है. टेंडॉन्स स्केलेटल मांसपेशियों से जुड़े हुए टिशूज को कहा जाता है. रुमेटाइटिस अर्थराइटिस और डायबिटीज से प्रभावित मरीजों में यह समस्या काफी आम है. इस स्थिति से बचने के लिए तुरंत डॉक्टर से परामर्श की आवश्यकता होती है। 
* .सारकॉइडोसिस के कारण :
एक अन्य कारण में सारकॉइडोसिस भी शामिल है जो कि एक ऑटोइम्यून डिसीज है. इसके कारण लिवर, दिल, फेफड़ों और अन्य अंगों पर प्रभाव पड़ता है. यह जानलेवा भी हो सकती. हड्डियों के अलावा मांसपेशियां भी प्रभावित हो सकती है। 
* फ्लूड रिटेंशन :
कुछ मामलों में फ्लूड रिटेंशन की वजह से उंगलियों में सूजन हो सकती है. दरअसल, फ्लूड रिटेंशन की स्थिति में शरीर के तरल पदार्थ ऊतकों और ज्वाइंट्स में जमा होने लगते हैं. जिसकी वजह से कभी-कभी आपकी उंगलियों में सूजन और लालिमा की शिकायत हो सकती है। 
* .कार्पल टनल सिंड्रोम :
कार्पल टनल सिंड्रोम एक ऐसी स्थिति हैं, जिसमें मरीज के हाथ सुन्न पड़ जाते हैं. कुछ मामलों में मरीज की उंगलियां बेकार और सूजी हुई लगती हैं. इसके अलावा इस समस्या से ग्रसित व्यक्ति को दर्द, झुनझुनी या सुन्नता महसूस हो सकती है. कनिष्ठ उंगली को छोड़कर बाकी सभी उंगलियों को यह समस्या प्रभावित कर सकती है. मांसपेशियों का कमजोर होना इस बीमारी का कारण होता है।