Health Care Tips: अगर आपको भी है एसिडिटी, गर्दन और पीठ में दर्द कि समस्या तो अपनाए ये टिप्स

 
Nind
कुछ लोग ऐसे भी होते हैं, जो रात ( sleeping disorder ) पर सोने की स्थिति को बदलते रहते हैं. इसके अलावा कुछ लोग ऐसे होते हैं, जो शारीरिक समस्याओं के चलते बेहतर नींद नहीं ले पाते हैं. पीठ, गर्दन और एसिडिटी नींद न आने की वजह बनती हैं। हेल्दी रहने के लिए पूरी या बेहतर नींद लेनी चाहिए. कम नींद लेने से लोगों को स्ट्रेस, थकान ( tiredness relief tips ) व अन्य समस्याएं होने लगती हैं. पूनी नींद न लेने के पीछे खानपान और एक्टिव न होना भी कारण हो सकते हैं. आप किस पोजिशन ( sleeping positions tips ) में सो रहे हैं, ये भी बहुत मायने रखता है. लोग कई तरह की पोजिशन में सोते हैं, जिनमें पेट के बल, पीठ के बाल, करवट लेकर सोना शामिल होता है. इस लेख में हम आपको बताएंगे कि किस हेल्थ प्रॉब्लम के दौरान किस पोजिशन में सोना फायदेमंद साबित हो सकता है। आइए जानते है विस्तार से -
1. एसिडिटी के दौरान :
Nind
तला-भुना या बाहर का मसालेदार खाना खाने से एसिडिटी होने लगती है. रात में अगर एसिडिटी शुरू हो जाए, तो ये रातभर सोने नहीं देती है. इससे निजात पाने के लिए सोते समय सिर के नीचे ऊंचा तकिया लगाएं या फिर बेड का सिरहाना किसी तरह ऊंचा कर लें और करवट लेकर सोएं. ये तरीका राहत दे सकता है।
2. कंधे में दर्द :
कंधे में होने वाला दर्द भी आपकी नींद में खलल डाल सकता है. कंधे में जिस तरफ दर्द है उस तरफ करवट लेकर न सोएं, क्योंकि ये तरीका दर्द को और बढ़ा सकता है. पीठ के बल सोने की आदत डालें. अगर आपको करवट लेकर सोना पसंद है, तो ऐसे तकिए का यूज करें, जो बॉडी को रिलैक्स फील कराए।
3. गर्दन में दर्द :
जिन लोगों की गर्दन में दर्द रहता है, उन्हें पेट के बल सोने से बचना चाहिए. ऐसे लोगों को पीठ के बल या फिर करवट लेकर सोना चाहिए. साथ ही गर्दन के नीचे तकिया लगाने की भूल न करें।
4. पीठ दर्द :
पीठ का दर्द रात में नींद में खलल पैदा कर सकता है. इस दौरान आपको पीठ के बल ही सोना है, लेकिन घुटनों के नीचे तकिया रखकर सोएं. एक्सपर्ट्स के मुताबिक इससे रीढ़ का नेचुरल कर्व बना रहता है. ज्यादा आराम चाहिए तो तौलिए का रोल बनाकर कमर के नीचे रखकर थोड़ी देर सीधे लेटे रहें।