सत्ता की संजीवनी करना चाहते हैं हासिल,बढ़ते संकट के बीच चीन भागने की तैयारी में इमरान

 
Imran
नई दिल्ली. भारत के पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान से ताजा खबर आई है कि इमरान खान जल्द ही चीन की तरफ दौड़ लगा सकते हैं। बताया गया है कि उनकी यात्रा का मकसद चीन और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय संबंधों को और मजबूत करना होगा। दरअसल, पाकिस्तान इस वक्त बेहद तंगहाली में जी रहा है। पाकिस्तान के मौजूदा हालात के चक्रव्यूह में इमरान ऐसे उलझ गए हैं कि उन्हें चीन भागने के अलावा कोई दूसरा रास्ता नजर नहीं आ रहा है। पाकिस्तान के पास कर्ज इतना है कि उसे चुकाने के लिए इमरान खान को कोई तरकीब नजर नहीं आ रही है। पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था इस कदर दांवाडोल हो चुकी है कि उसके दिवालिया होने के आसार नजर आ रहे हैं। 
* 60 अरब डॉलर की लागत से बन रहा है सीपीईसी 
Imran
चीन के संसाधन संपन्न शिनजियांग प्रांत को बलूचिस्तान में पाकिस्तान के रणनीतिक ग्वादर बंदरगाह से जोड़ने वाला 60 बिलियन अमरीकी डालर का सीपीईसी बेल्ट एंड रोड पहल की प्रमुख परियोजना के रूप में माना जाता है, चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की वित्त पोषित योजना का उद्देश्य विश्व स्तर पर चीन के प्रभाव को आगे बढ़ाना है। ये चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की सबसे पसंदीदा योजना है। सीपीईसी प्राधिकरण ने कहा कि खान ने पाकिस्तान में चीनी उद्यमों के काम से पैदा होने वाले अंतर को देखा है और सीपीईसी के कारण थार कोयला ऊर्जा का सपना साकार हुआ है।
इमरान की प्रस्तावित चीन यात्रा का एलान चीन-पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर के लिए प्रधानमंत्री के विशेष सहायक खालिद मंसूर ने किया है।पाकिस्तान में जारी राजनीतिक अस्थिरता और सीपीईसी में कार्यरत चीनी नागरिकों पर हमले से नाराज चीन ने कई परियोजनाओं की फंडिंग को रोक दिया है। पाकिस्तानी प्रतिनिधि ने कहा कि इमरान खान की यात्रा से पाकिस्तान और चीन के रिश्ते और मजबूत होंगे