मुल्ला अब्दुल कय्यूम ने 6 साल अमेरिकी जेल में बिताए और तालिबान ने उन्हें मंत्रालय दिया

 

मुल्ला अब्दुल कय्यूम ने 6 साल अमेरिकी जेल में बिताए और तालिबान ने उन्हें मंत्रालय दिया

काबुल: अफगानिस्तान पर कब्जा करने के बाद आतंकी संगठन तालिबान अब अपनी सरकार बनाने की कोशिश में है. इसी कड़ी में उन्होंने अपनी सरकार के कुछ अंतरिम मंत्रियों को भी नियुक्त किया है. तालिबान ने शांति वार्ता का विरोध करने वाले दुनिया के सबसे खतरनाक जेल कैदी और खूंखार आतंकवादी मुल्ला अब्दुल कय्यूम जाकिर को अफगानिस्तान का नया रक्षा मंत्री नियुक्त किया है।

मुल्ला अब्दुल कय्यूम जाकिर तालिबान का एक वरिष्ठ कमांडर है। उन्हें तालिबान के संस्थापक मुल्ला उमर का भी काफी करीबी माना जाता है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अमेरिका के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हुए आतंकी हमले के बाद 2001 में उन्हें अमेरिकी नेतृत्व वाली सेनाओं ने गिरफ्तार किया था. उन्हें 2007 तक ग्वांतानामो की जेल में रखा गया था। बाद में उन्हें रिहा कर दिया गया और अफगान सरकार को सौंप दिया गया। आपको बता दें कि मुल्ला अब्दुल की गिनती तालिबान के खूंखार आतंकियों में होती है।



ग्वांतानामो बे अमेरिकी फ़ैज़ की एक उच्च सुरक्षा वाली जेल है, जो क्यूबा में स्थित है। इस जेल में खूंखार और हाई प्रोफाइल आतंकियों को कैद रखा जाता है। आपको बता दें कि तालिबान ने अभी तक अफगानिस्तान में औपचारिक रूप से सरकार नहीं बनाई है, हालांकि, आतंकवादी संगठन ने देश को चलाने के लिए अपने कुछ नेताओं को प्रमुख पदों पर नियुक्त किया है। इसी कड़ी में हाजी मोहम्मद इदरीस को देश के केंद्रीय बैंक अफगानिस्तान बैंक (डीएबी) का 'कार्यवाहक प्रमुख' नियुक्त किया गया है।