VIDEO: 'या अल्लाह मुसलमानों को ताकत दे, दूसरों को मिटा दे..', इमाम शेख यूनुस

 
dd

ओटावा: आपने आज तक आतंकवादियों से गैर-मुसलमानों या काफिरों को मारने और मूर्तियों को तोडऩे के बारे में सुना होगा. जो अपने शरीर पर बम बांधकर निर्दोष लोगों के बीच विस्फोट करते हैं, यह सोचकर कि भगवान उन्हें स्वर्ग में जगह देंगे और ये आतंकवादी वहां हूरों का आनंद लेंगे। लेकिन, अगर आपसे कहा जाए कि केवल आतंकवादी ही नहीं बल्कि इस्लाम के पूर्ण ज्ञान का दावा करने वाले कुछ इमाम भी सभी गैर-मुस्लिमों की मौत की दुआ करते हैं और उन्हें अपना दुश्मन मानते हैं, तो आप क्या कहेंगे? कनाडा के ऐसे ही एक इमाम शेख यूनुस कथराडा का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसमें उन्होंने गैर-मुसलमानों के खिलाफ जहर उगला है.




वायरल वीडियो में इमाम यूनुस मुस्लिमों को गैर मुस्लिमों के खिलाफ भड़काते नजर आ रहे हैं. वीडियो में शेख यूनुस कह रहे हैं, 'हमारे बच्चों को समझना चाहिए कि गैर-मुस्लिम अल्लाह के दुश्मन हैं, इसलिए वे हमारे भी दुश्मन हैं.' इस वीडियो को अमेरिका स्थित मिडिल ईस्ट मीडिया रिसर्च इंस्टीट्यूट के ट्विटर हैंडल MEMRI से शेयर किया गया है. वीडियो में कही गई बातों का अंग्रेजी में सबटाइटल भी था। रिपोर्ट्स के मुताबिक, कनाडा के इमाम शेख यूनुस कनाडा के विक्टोरिया में मुसलमानों के लिए आयोजित एक कार्यक्रम में भाषण दे रहे थे. इस दौरान उन्होंने गैर मुस्लिमों के खिलाफ जमकर जहर उगला। उनके निशाने पर ज्यादातर ईसाई थे। इमाम ने कहा कि अल्लाह का अपमान करने वाले अल्लाह के दुश्मन हैं। अल्लाह ने क़ुरआन में कहा है कि उसे (अल्लाह) किसी ने पैदा नहीं किया, न वह किसी की औलाद है और न उसकी कोई औलाद है। लेकिन, ईसाई कहते हैं कि अल्लाह का एक बेटा है। क्या यह अल्लाह का अपमान नहीं है?'

2 मिनट 12 सेकंड के वीडियो में इमाम शेख यूनुस ने कहा, "गैर-मुस्लिम, जिनमें ईसाई, यहूदी और अन्य नास्तिक शामिल हैं, अल्लाह के दुश्मन हैं। क्या आपको लगता है कि वे आपके दोस्त हैं? नहीं, अगर वे अल्लाह के दुश्मन हैं। अल्लाह, वे आपके दोस्त कैसे हो सकते हैं? मैं चाहता हूं कि हमारे बच्चे इसे अच्छी तरह से समझें। वे अल्लाह के दुश्मन हैं, और आपके दुश्मन भी हैं। उनमें से कुछ अल्लाह के अस्तित्व को नहीं मानते। क्या आप ऐसा बनाना चाहते हैं व्यक्ति तुम्हारा दोस्त?"


वीडियो के अंत में, शेख यूनुस ने अरबी में एक प्रार्थना करते हुए कहा, "या अल्लाह, इस्लाम और मुसलमानों को ताकत दे, काफिरों को अपमानित करे और जो कई देवी-देवताओं (हिंदुओं) की पूजा करते हैं, इस्लाम के दुश्मनों और काफिरों का सफाया करें।" !"


गैर मुस्लिमों को बधाई देना हत्या और बलात्कार से भी बड़ा पाप है:-

यह पहली बार नहीं है जब इमाम शेख यूनुस ने इस तरह का जहरीला भाषण दिया है. इससे पहले भी इमाम इस तरह के विवादित भाषण दे चुके हैं। 2018 में, शेख यूनुस कथराडा ने ब्रिटिश कोलंबिया में एक भाषण दिया, जहां उन्होंने कहा कि "ऐसे लोग हैं जो उन्हें" मेरी क्रिसमस "कहते हैं - आप उन्हें बधाई क्यों दे रहे हैं? क्या ये आपके भगवान के जन्म पर बधाई हैं? इमाम ने कहा था कि 'यदि कोई व्यक्ति हर बड़ा पाप करता है - जैसे कि व्यभिचार करना, सूद लेना, झूठ बोलना, हत्या करना, यदि कोई व्यक्ति वे सभी बड़े पाप करता है, तो वे गैर-मुस्लिमों को त्योहारों की बधाई देने के पाप की तुलना में कुछ भी नहीं हैं।'

बता दें, इमाम शेख यूनुस के सोशल मीडिया हैंडल ऐसे जहरीले वीडियो से भरे पड़े हैं. हालांकि हैरान करने वाली बात ये है कि कनाडा में रहने वाला शेख यूनुस गैर मुस्लिमों के खिलाफ जहर उगलता रहता है. हालाँकि, उसके खिलाफ आज तक कोई कार्रवाई नहीं की गई, भले ही कनाडा एक ईसाई-बहुल देश है। सोचने वाली बात यह भी है कि इसी तरह के भाषणों को सुनकर मुस्लिम युवा आतंकवादी बन जाते हैं और गैर-मुस्लिमों की हत्या को 'पुण्य' का कार्य समझने लगते हैं। आखिर युवाओं को सही रास्ता दिखाने की जिम्मेदारी निभाने वाले इमाम या मौलवी ऐसा जहर उगलेंगे तो विभिन्न धर्मों के बीच सद्भाव कैसे स्थापित होगा?