No Hijab Needed! 40 प्रदर्शनकारियों की मौत, इंटरनेट बंद.., ईरान में महिलाओं का प्रदर्शन और हुआ हिंसक

 
gg

तेहरान: ईरान में जारी हिजाब विरोधी प्रदर्शन और हिंसक हो गया. इस विरोध प्रदर्शन में अब तक 40 लोगों की मौत हो चुकी है. इनमें से अधिकांश मौतें ईरानी पुलिस की गोलियों के कारण हुईं, जिन्हें उन्होंने प्रदर्शन को कुचलने के लिए चलाई थी। ईरान की 22 वर्षीय युवती महसा अमिनी की निर्मम हत्या के बाद से पूरे ईरान में हिजाब विरोधी विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। उग्र विरोध के मद्देनजर सरकार ने इंटरनेट पर प्रतिबंध लगा दिया है। ईरान के खुफिया मंत्रालय ने गुरुवार को चेतावनी दी कि विरोध प्रदर्शनों में हिस्सा लेना गैरकानूनी है और प्रदर्शनकारियों पर मुकदमा चलाया जाएगा।

आपको बता दें कि ईरान में मोरल पुलिस ने हिजाब से देखे बालों के कारण महसा अमिनी को बुरी तरह पीटा था, जिसके बाद वह ब्रेन डेड हो गई थी और कोमा में चली गई थी, जिसके बाद इस 22 वर्षीय महिला की इलाज के दौरान मौत हो गई थी। पुलिस सेवा। हालांकि ईरान की मोरल पुलिस दावा कर रही है कि महसा की मौत हार्ट अटैक से हुई है। जबकि अमिनी के परिवार का कहना है कि महसा बिल्कुल स्वस्थ थी। पुलिस ने उसे बेरहमी से पीटा, जिससे उसकी मौत हो गई।


महसा अमिनी की मृत्यु के बाद सबसे पहले कुर्दिस्तान में विरोध प्रदर्शन हुए। इसे देखते ही ये विरोध लगभग पूरे ईरान में फैल गया। ईरान में मुस्लिम महिलाएं हिजाब जलाकर और बाल काटकर महसा अमिनी की निर्मम हत्या का विरोध कर रही हैं। ईरान में प्रदर्शनकारियों के खिलाफ कड़ा रुख अख्तियार करते हुए सुरक्षा बल लगातार बल प्रयोग कर रहे हैं। ईरान में अब तक 40 प्रदर्शनकारी अपनी जान गंवा चुके हैं। ईरान सरकार के इस क्रूर व्यवहार की संयुक्त राष्ट्र, अमेरिका और इसराइल समेत कई देश आलोचना कर रहे हैं.