loading...

Reliance Jio का बड़ा खुलासा आईपीसी के लिए कंपनियां कर रही धोखाधड़ी

Thursday, 17 Oct 2019 06:13:54 PM

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

रिलायंस जियो ने एक नया आरोप लगाते हुए कहा है कि भारती एयरटेल, वोडाफोन आइडिया और बीएसएनएल जैसी पुरानी दूरसंचार कंपनियां इंटरकनेक्टह उपयोग शुल्कय (आईयूसी) के जरिये अनुचित आय अर्जित करने के लिए फिक्स्ड लैंडलाइन नंबर्स का मोबाइल नंबर की तरह उपयोग कर रही हैं। ट्राई को लिखे अपने एक और पत्र में जियो ने आरोप लगाया है कि यह प्रतिस्प र्धी टेलीकॉम ऑपरेटर्स द्वारा किया गया धोखाधड़ी का प्रयास है और इसके लिए उन्हें कड़ी सजा दी जानी चाहिए। 14 अकटुबर को ट्राई को लिखे अपने पत्र में जियो ने कहा है कि प्रतिस्पीर्धी ऑपरेटर्स ने एक ऐसी प्रक्रिया को अपनाया है, जिसके तहत विभिन्न उद्यमों को उनके कस्टनमर केयर या हेल्पऐलाइन नंबर्स के लिए मोबाइल नंबर्स प्रदान किए जाते हैं। इन मामलों में, कॉल सेंटर के लिए ऐसे सभी कॉल को रूट करने के लिए मोबाइल नंबर का इस्ते माल एक वर्चुअल नंबर के रूप में किया जाता है।

loading...

जियो ने आरोप लगाया है कि इसके जरिये मोबाइल से वायरलाइन वाली कॉल की प्रकृति को मोबाइल से मोबाइल में बदला जाता है, जो कि पुराने ऑपरेटर्स द्वारा 6 पैसा प्रति मिनट इंटरकनेक्टय उपयोग शुल्कल की अवैध वसूली के लिए की गई एक धोखाधड़ी है। जियो के इस नए पत्र से आईयूसी (IUC) शुल्कल को लेकर चल रहे विवाद में और नया मुद्दा जुड़ गया है। ट्राई ने पिछले महीने कहा था कि वह 1 जनवरी 2020 से आईयूसी (IUC) शुल्कर को खत्मन करने के अपने फैसले पर पुर्नविचार करेगा। ट्राई ने इसके लिए एक परिचर्चा पत्र भी जारी किया है। इसके बाद ही रिलायंस जियो ने अपने उपभोक्ता ओं से दूसरे नेटवर्क पर किए जाने वाले कॉल के लिए 6 पैसा प्रति मिनट का शुल्कन लेने की घोषणा की।आईयूसी को खत्म करने से जियो जैसे ऑपरेटर्स को फायदा होगा, जिनका आउटगोइंग ट्रैफिक इनकमिंग कॉल्सम की तुलना में अधिक है।

जून अंत तक जियो के कुल ट्रैफिक में 64 प्रतिशत आउटगोइंग कॉल का था।यदि ट्राई आईयूसी को जारी रखने का फैसला लेता है तो इससे भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया को फायदा होगा क्योंरकि इनके कुल ट्रैफिक में आउटगोइंग की तुलना में इनकमिंग कॉल्स की अधिकता है।जियो ने अपने पत्र में यह भी आरोप लगाया है कि टेलीकॉम ऑपरेटर न केवल अवैध रूप से आईयूसी राजस्व् को अर्जित कर रहे हैं, बल्कि सार्वभौमिक पहुंच और टोल-फ्री नंबर पर किए गए कॉल के लिए मूल ऑपरेटर (Jio) को 52 पैसे प्रति मिनट का राजस्वर देने से भी बच रहे हैं। जियो ने कहा है कि हमें आशंका है कि प्रतिस्प र्धी ऑपरेटर्स द्वारा बाजार में ऐसे हजारों नंबर को संचालित किया जा रहा है। जियो ने अरोप लगाया कि इस तरह की गैरकानूनी, धोखाधड़ी के परिणामस्वचरूप जियो नेटवर्क से उत्पिन्न होने वाले लाखों मिनट के कॉल को वायरलाइन टर्मिनेशन के बजाये मोबाइल टर्मिनेटिंग मिनट माना जा रहा है इससे जियो को न केवल करोड़ों रुपए का नुकसान हो रहा है बल्कि जियो और अन्यन ऑपरेटर्स के बीच ट्रैफिक में भी असंतुलन हो रहा है। यही एक कारण है कि जियो ट्राई से अपने निर्णय पर विचार करने की अपील कर रही है।

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


loading...