loading...

जानिए, गाड़ियों में अलग-अलग रंग की नंबर प्लेट क्यों होती है !

Monday, 08 Apr 2019 10:18:35 AM

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

इंटरनेट डेस्क। आपने गाडी तो बहुत चलाई होगी और इतना है नहीं आपके पास गाडी भी होगी। लकिन आज तक आपने यह कभी नोटिस नहीं किया होगा कि सड़क पर चलने वाली गाड़ियों के नंबर प्लेट ही नहीं उन नंबर प्लेट्स के कलर्स भी अलग-अलग होते हैं। जिनके के बारे में यह बहुत काम लोग जानते है। दरअसल, इन अलग अलग की नंबर पिलेट्स से ये पता चलता है की ये गाड़ी किस काम आने वाली है, इसके आधार पर दिये जाते हैं। तो चलिए आज आपको बताते हैं कि रंग-बिरंगी नंबर प्लेट्स के मकसद। ताकि आप दूर से गाड़ी की प्लेट देखकर जान सकें कि गाड़ी आपके काम की हैं या नहीं

loading...

सफेद रंग की नंबर प्लेट : अधिकतर सड़क पर चलने वाली गाड़ियां इसी तरह की होती है यानि सफेद प्लेट पर काले अक्षरों में नंबर लिखा होता है।ये गाड़ियां पर्सनल होती हैं और इन्हें कमर्शियल पर्पज से यूज नहीं कर सकते है। 

पीली प्लेट वाली गाड़ियां : जो भी पीले रंग की नंबर प्लेट वाली गाड़ियां होती है वो  कमर्शियल पर्पज से यूज होती है, इसीलिए आपने नोटिस किया होगा कि ट्रक और टैक्सी की नंबर प्लेट पीले रंग की होती है। इन गाड़ियों के ड्राइवर्स के पास कमर्शियल ड्राइविंग परमिट होता है।

काले नंबर प्लेट वाली गाड़ियां : काले रंग के बैकग्राउंड पर पीले रंग से नंबर लिखे रहते हैं। ऐसी गाड़ियां होती तो कमर्शियल पर्पज के लिए हैं लेकिन आप इन्हें किराए पर पर्सनल काम के लिए ले सकते हैं। ऐसी गाड़ियों के ड्राइवर के पास कमर्शियल ड्राइविंग लाइसेंस होना जरूरी नहीं होता।

हल्के नीले रंग की प्लेट वाली गाड़ियां : ऐसी प्लेट्स पर नंबर सफेद रंग से लिखे होते हैं।ये गाड़ियां डेलीगेट्स यानि दूसरे देशों के राजदूत या एंबेसी सो जुड़े उच्च पदस्थ अधिकारियों के लिए होती है। इसीलिए ऐसी नंबर प्लेट्स पर UN, CC जैसे लेटर्स लिखे रहते हैं।

ऊपर की ओर एरो के निशान वाली गाड़ियां : इन गाड़ियों की प्लेट का रंग नहीं बल्कि इनके नंबर लिखने के स्टाइल से इनका पता चलता है। ये गाड़ियां मिलिट्री से संबंधित होती हैं। 

लाल रंग की प्लेट वाली गाड़ियां : लाल रंग की प्लेट वाली गाड़ियां बिना लाइसेंस नंबर की होती हैं, और ये देश के माननीय राष्ट्रपति, राज्यों के राज्यपाल की होती है। इन पर नंबर नहीं होता है।

फैंसी वर्ड्स वाली नंबर प्लेट्स: Motor Vehicles act 1989 के सेक्शन 50 और 51 के अंतर्गत डॉक्टर, वकील या पुलिस या कुछ भई और नंबर प्लेट पर लिखना अवैध माना जाता है। इस तरह की नंबर प्लेट वाले वाहन दिखने पर इसकी शिकायत ट्रैफिक पुलिस से कर देनी चाहिए।

स्पेशल नंबर वाली गाड़ियां : इन गाड़ियों का नंबर अवैध तो नहीं होता लेकिन इनके लिए अच्छी खासी रकम खर्च करनी पड़ती है।

ये भी पढ़े : घर में ताला लगाकर निकली थी "प्रेमी" से मिलने, जेठ ने कर लिया पीछा और फिर...
ये भी पढ़े : चार बच्चों के पिता ने किया दसवी की छात्रा का बलात्कार और फिर...
ये भी पढ़े : पांच बच्चों की 'मां' पर थी बुरी नजर, माथा टेकने के बहाने ले गया और फिर...
ये भी पढ़े : समोसा खिलाने के बहाने ले गया "भतीजे" को.. और फिर कर डाला कुकर्म !

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


loading...