भारत के इस देश में लगता है भूतों का मेला, जानें इसकी ​दिलचस्प कहानी

Saturday, 09 Feb 2019 03:37:37 PM
भारत के इस देश में लगता है भूतों का मेला, जानें इसकी ​दिलचस्प कहानी

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

इंटरनेट डेस्क। हर किसी की भूत-प्रेत और चुड़ैल से जुड़ी अपनी सोच और मान्यता है। कुछ लोग इन बातों पर विश्वास करते है तो कुछ नहीं। लेकिन हमारे भारत में कई देश ऐसे है जहां पर इनसे जुड़ी कई मान्यताएं है और लोग  इन्हें सदियों से निभाते चले आ रहे हैं। आज  हम आपको एक ऐसे ही  दिलचस्प किस्से के बारे में बताने जा रहे है। ये किस्सा मध्य प्रदेश के बैतूल जिले का है। बैतूल जिले से 42 किमी दूर मलाजपुर गांव में हर साल भूतों का मेला लगता है और यह मेला मकर संक्रांति की पहली पूर्णिमा से शुरू होता है और बसंत पंचमी तक चलता है।


पुरानी साड़ी से बनाए ट्रेंडी और फैशनेबल आउटफिट

इस मेले में कई गांव के लोग शामिल होते है। इस मेले की खासियत यह है कि यह मेला किसी आम इसांन के लिए बल्कि भूत प्रेतों के लिए लगाया जाता है। यह मेला देवजी महाराज मंदिर में लगता है जहां पर बुरी आत्माओं, भूत-प्रेत और चुड़ैल से प्रभावित लोग एक पेड़ की परिक्रमा लगाते है। यहां के लोगों की मान्यता है कि ऐसा करने से से सारी बाधाएं दूर हो जाती है। जिन लोगों के सिर पर भूत प्रेत का साया होता है  वह लोग अपने हाथ और मुंह में कपूर जलाकर रखते है और पेड़ के परिक्रमा करते है।

फिल्म प्रमोशन में दिखा आलिया का गॉर्जियस लुक, आप भी करें फॉलो

बताया जाता है कि भूत-प्रेत से प्रभावित लोग जब ठीक हो जाते है तो इसके बाद उन्हें गुड़ से तौला जाता है। जिससे यहां पर बहुत सारा गुड़ इकट्ठा हो जाता जिसे प्रसाद के रूप में बांट दिया जाता है। यहां के लोगों की मान्यता है कि  1770 में गुरु साहब बाबा नाम के साधु थे जिनके पास कई तरह की शक्तियां थी और वो भूत प्रेत को अपने वश में कर लेते थे। गुरु साहब बाबा इसी पेड़ के नीचे अपनी समाधि ली थी ​जिसके बाद गांव वालों ने उनके नाम का मंदिर बनवा दिया था। अपनी भूत बाधा को दूर करने के लिए इस मंदिर में दूर दूर से लोग आते है।

2018 चौथा सबसे गर्म साल, कैसा रहेगा अगले 5 सालों में दुनिया का तापमान?

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

loading...