जिसे 30 साल तक पत्थर समझा वो निकला उल्कापिंड, जानकर उड़े होश

Tuesday, 09 Oct 2018 05:13:08 PM
जिसे 30 साल तक पत्थर समझा वो निकला उल्कापिंड, जानकर उड़े होश

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

वॉशिंगटन। कभी कभी इंसान के साथ कुछ ऐसा हो जाता है जिसको जानकर वह हैरानी में पड़ जाता है। ऐसा ही कुछ अमेरिका के एक व्यक्ति के साथ। दरअसल, इस व्यक्ति ने 30 साल तक 10 किलो के एक पत्थर के टुकड़े से अड़ाकर दरवाजा बंद कर रखा था, लेकिन जब इस पत्थर के बारे में उसे पता चला तो उसकी होश ठन्डे हो गए। वह जिसको पत्थर का टुकड़ा समझ रहा था वो एक उल्कापिंड निकला। 


इसकी कीमत 1 लाख डॉलर (करीब 74 लाख) आंकी गई है। उसे यह उल्कापिंड उस वक्त उपहार के तौर पर मिला था, जब 1988 में उसने अपनी संपत्ति बेची थी। व्यक्ति को उल्कापिंड उपहार में देने वाले मालिक ने जानकारी बताया कि साल 1930 के दशक की एक रात यह पत्थर खेत में खुदाई के दौरान मिला। उस समय यह काफी गर्म था। 

वहीं उल्कापिंड के नए मालिक ने बताया कि मुझे यह पत्थर सही लगा और मैं इसका प्रयोग दरवाजे को रोकने में करने लगा। कुछ समय पहले मेरे दिमाग में आया कि इस पत्थर की कीमत का पता लगाया जाए। इसके बाद इस पत्थर को मिशिगन यूनिवर्सिटी ले गया। 

जब मिशिगन यूनिवर्सिटी में जियोलॉजी की प्रोफेसर मोनालिसा सर्बेस्कु ने एक पत्थर जाँच की थो वो हैरान रह गई। इसके बाद पत्थर का एक्सरे फ्लोरोसेंस से परीक्षण कराने का फैसला किया गया। जांच में सामने आया कि इस पत्थर में 88 फीसदी लोहा, 12 फीसदी निकल और कुछ मात्रा में भारी धातु जैसे इरीडियम, गैलियम और सोना शामिल है। मोनालिसा ने पत्थर का अंश वाशिंगटन के स्मिथसोनियन इंस्टीट्यूट भेजा, यहां पर इसके उल्कापिंड होने की पुष्टि हुई। वहीं इस पत्थर को एडमोर उल्कापिंड नाम दिया गया है, क्योंकि यह एडमोर में ही गिरा था।

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures