योग दिवस विशेष: 'अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस' में भारत की सहभागिता और प्रधानमंत्री मोदी का योगदान

Thursday, 21 Jun 2018 01:50:45 PM
योग दिवस विशेष: 'अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस' में भारत की सहभागिता और प्रधानमंत्री मोदी का योगदान
Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

इंटरनेट डेस्‍क। प्राचीन काल से ही योग का चलन भारत में होता आया हैं। आज योग को विश्‍व के अनेक देशों में अपनाया जा चुका हैं मगर धार्मिक ग्रंथों के अनुसार इसकी उत्‍पति भारत में हुई थी। वर्तमान में योग को अंतर्राष्ट्रिय स्‍तर की पहचान मिल चुकी हैं मगर बीच में एक समय ऐसा भी आया था जब लोग इसे भूलने लगे थें। आज भारत की अनुठी शुरूआत के साथ योग को विश्‍व में बडी पहचान मिल चुकी हैं और इसे संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा विशेष दर्जा भी दिया गया हैं। योग को अंतर्राष्ट्रिय स्‍तर पर एक नई पहचान दिलाने और विश्‍व के हर जनमानस तक पहुंचाने के लिए भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इसे 'अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस' के रूप में मनाने का प्रस्‍ताव रखा जो सफल रहा। प्रधानमंत्री मोदी की इस अनुठी शुरूआत के बाद आज विश्‍व के तकरिबन 190 देशों ने इसे अपनाया हैं। आईये जानते हैं इस विशेष दिन में भारत की सहभागिता और प्रधानमंत्री मोदी द्वारा उठायें गये विशेष कदमों के बारें में-

भारत के प्रधनमंत्री नरेंद्र मोदी ने योग को अंतर्राष्ट्रीय स्‍तर पर अलग पहचान दिलाने के लिए इसकी पहल 27 सितम्बर 2014 के दिन की थी। दरअसल इस दिन भारत के प्रधानमंत्री ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के समक्ष दिये अपने भाषण की शुरूआत योग के म‍हत्‍व की जानकारी देते हुए की थी। प्रधानमंत्री मोदी ने अपने भाषण में भारत की इस धरोहर को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाने बात रखी थी और उनकी इस कवायद को अंतर्राष्ट्रीय स्‍तर पर काफी सराहा गया था। प्रधानमंत्री मोदी द्वारा योग की दिशा में उठाये गये कदम को देखते हुए संयुक्त राष्ट्र महासभा ने इसे 'अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस' के रूप में घोषित कर दिया। इस दिन को ये विशेष पहचान 21 जून को मिली थी। वर्ष 2017 में 21 जून के दिन भारत सहित अनेक देशो में इसे 'अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस' के रूप में मनाया गया।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रोचक तथ्य:

'अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस' को मनाने की इस अनुठी पहल को प्रधानमंत्री मोदी ने महज 90 दिन के भीतर पूर्ण बहुमत से पारित करवाया था जो अब तक का अनोखा रिकॉर्ड हैं। इस विशेष दिवस को प्रस्‍तावित करने से पहले कभी भी संयुक्त राष्ट्र संघ ने इतने कम समय में किसी दिवस को मनाने की सहमति नही जतार्इ। योग दिवस को एक विशेष दिन के रूप में मनाने के समर्थन में विश्‍व के कुल 190 देशों ने सहमति जताई थी जिनमें 40 मुस्लिम देश भी शामिल थें। वर्ष 2017 में 21 जून यानि की 'अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस' के दिन भारत सरकार ने 'आयुष मंत्रालय' की स्थापना की थी।

'अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस' को एक विशेष दिन बनाने के लिए पिछले वर्ष तकरिबन 36,000 व्‍यक्तियों ने एक साथ दिल्‍ली के राजपथ पर योग किया था। देश में इतना बडे आयोजन का संचालन खुद प्रधानमंत्री मोदी ने किया था। इस दिन को इतिहास में दर्ज करवाने के लिए बाबा रामदेव द्वारा विशेष पैकेज का प्रस्‍ताव रखा गया जो लगभग 35 मिनट का हैं।

रिकॉर्डस में शामिल हुई भारत की पहल: 

वर्ष 2017 में 'अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस' को यादगार बनाने के साथ साथ गिनीज बूक में भी कुछ रिकॉर्ड्स जोडे गये जिनके अनुसार इस दिन तकरिबन 84 देशों के लोगों ने एक साथ और एक ही जगह योग का अभ्‍यास किया। इसके अलावा इसी दिन 35,985 लोगों ने एक साथ और एक ही जगह योग का अभ्‍यास किया।

'अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस' को यादगार बनाने के के लिए तकरीबन 30,000 व्‍यक्तियों ने एक साथ न्यूयार्क के टाइम्स स्कवायर पर योग का अभ्‍यास किया था जो विश्‍व में योग की बढती पहुंच को दर्शाता हैं। इसके अलावा योग को लेकर भारत में राजनीति में सियासी चाले खेली गई। दरअसल सूर्य नमस्‍कार योग का अभिन्‍न अंग हैं जिसे लेकर विपक्ष ने सत्‍तासीन पार्टी पर हिंदुत्व को बढ़ावा देने के आरोप जड दिये थें।

वर्ष 2018 में योग दिवस को एक बार फिर से बडे पैमाने पर मनाया गया हैं। 21 जून 2018 को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का मुख्‍य आयोजन प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्‍व के अंदर चंडीगढ़ में किया गया हैं जिसमें तकरिबन 35,000 लोग शामिल हुये हैं। वर्ष 2018 में मनायें गये 'अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस' में तकरिबन 170 से भी अधिक देशों ने हिस्‍सा लिया हैं। 'अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस' के दिन देश के अलग-अलग हिस्‍सो में 57 मंत्री ऐसे कार्यक्रमो का आयोजन और संचालन करते नजर आये हैं।

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures