कश्मीर में आतंकियों का सफाया करेंगे NSG के कमांडो

Friday, 22 Jun 2018 07:44:06 AM
कश्मीर में आतंकियों का सफाया करेंगे NSG के कमांडो
Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

इंटरनेट डेस्क: जम्मू-कश्मीर में रमजान के खत्म होने के साथ ही सेना अपने पुराने ऑपरेशन ऑल आउट को शुरू कर दिया है। सेना के जवान औरंगजेब की हत्या और वरिष्ठ पत्रकार शुजात बुखारी की हत्या के बाद घाटी में अंशाति का वातावरण बन गया था। इस बात को लेकर तीन साल से चल रही जम्मू कश्मीर में बीजेपी और पीडीपी गठबंधन भी टूट गया है। बीजेपी ने इस गठबंधन के टूटने का कारण पीडीपी पर लगाया था। अमरनाथ यात्रा पर आतंकी हमले की सुचना के बाद केंद्र सरकार ने नैशनल सिक्यॉरिटी गार्ड्स का एक दल कश्मीर के लिए रवाना कर दिया है। ये कमांडो कश्मीर में चल रहे आतंकविरोधी के खतरनाक होंगे। 


महबूबी मुफ्ती ने मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा देने के बाद जम्मू-कश्मीर में राज्यपाल शासन लागु हो गया है। गृह मंत्रालय ने एनएसजी की तैनाती का आदेश दिया है और ये कमांडो सेना के साथ मिलकर काम करेंगे। इन कमांडो को आतंकविरोधी अभियानों को खत्म करने में सबसे अच्छा बताया जाता है। सुरक्षा बलों के लिए ढाल बनकर उनकी रक्षा करेंगे। एनएसजी के कमांडो की तैनाती घाटी के गंभीर परिस्थितियों को देखते हुए लिया गया है। रमजान के महीने में आतंकी घटनाओं  की संख्या ज्यादा हो गई थी जिसके कारण ये फैसला लिया गया है। 

एनएसजी कमांडो भारत की सबसे खतरनाक सेना का एक हिस्सा होता है। इन कमांडो के पास एमपी 5 सब मशीन गन, दीवार के पार देखने वाली रेडार के साथ नई तकनीकी के ​हथियारों से लैस होते हैं। 1984 में अमृतसर स्वर्ण मंदिर में छिपे आतंकियों को मारने के लिए ऑपरेशन ब्लू स्टार के बाद एनएसजी का गठन किया गया था। मुंबई आतंकी हमले, पठानकोट एयर बेस पर हमले और अक्षरधाम आतंकी हमले के समय एनएसजी कमांडो ने अपना दम दिखाया था। इन कमांडो के आगे दुनिया को कितना भी बड़ा आतकंवादी हो वह बच नहीं सकता। घाटी में शांति का वातावरण कायम करने के लिए केंद्र सरकार ने इनको तैनात किया है।

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures