loading...

इन मंत्रों के साथ मकर संक्रांति पर सूर्य और शनि को प्रसन्न करें

Monday, 13 Jan 2020 03:46:22 PM

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

loading...

संक्रांति एक विशेष राशि चक्र पर सूर्य की यात्रा है। सूर्य हर महीने राशि बदलता है, इसीलिए साल में बारह संक्रांति होती हैं। लेकिन दो संक्रांति सबसे महत्वपूर्ण हैं, इसके अलावा एक मकर संक्रांति है और दूसरी कर्क संक्रांति है। मकर संक्रांति तब होती है जब सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है। अग्नि का यही तत्व मकर संक्रांति से और जल तत्व कर्क संक्रांति से शुरू होता है। इस समय, सूर्य उत्तरायण है, इसलिए इस समय जप और दान अनंत बार होते हैं। वही मकर संक्रांति 15 जनवरी को मनाई जाती है।

मकर संक्रांति ज्योतिष से कैसे संबंधित है?



- यह बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि सूर्य और शनि इस त्योहार से संबंधित हैं।
- कहा जाता है कि इस त्योहार पर सूर्य अपने पुत्र शनि से मिलने आते हैं।
सामान्यत: शुक्र का उदय भी इसी समय के आसपास होता है, इसलिए शुभ कार्य यहीं से शुरू होते हैं।
- यदि कुंडली में सूर्य या शनि की स्थिति खराब है, तो इस त्योहार पर विशेष पूजा के साथ आप इसे सही कर सकते हैं।
- जहां परिवार में रोग, अशांति और अशांति होती है, वहां रसोई में विशेष ग्रहों की पूजा करके लाभ प्राप्त किया जा सकता है।

सामान्य रूप से मकर संक्रांति पर क्या करें?

- पहले होरा में स्नान करें, इसे सूर्य को अर्पित करें
- श्रीमदभगवद का एक अध्याय पढ़ें, या गीता पढ़ें
- नए अनाज, कंबल और घी का दान करें
- भोजन में नई खिचड़ी बनाएं
- भगवान को भोजन समर्पित करें और प्रसाद के रूप में लें

सूर्य से लाभ पाने के लिए क्या करें?

- लाल फूल और अक्षत डालकर सूर्य को अर्घ दें
- सूर्य बीज मंत्र का जप करें
- मंत्र "m ह्रीं ह्रीं ह्रौं सः सूर्याय नमः" होगा।
- लाल वस्त्र, तांबे के बर्तन और गेहूं का दान करें
- शाम के समय भोजन का सेवन न करें

शनि से लाभ पाने के लिए क्या करें?

- तिल और अक्षत मिलाकर सूर्य को अर्घ्य दें।
- शनि देव के मंत्र का जाप करें
- मंत्र होगा - "प्रौ प्रां प्रीं प्रौं स: शनैश्चराय नम:"
- घी, काले कंबल और लोहे का दान करें
- दिन में भोजन का सेवन न करें

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


loading...