ट्रंप के इस कदम से आईटी पेशेवरों की बढ़ सकती है मुश्किलें, एच-1बी वीजा के नियमों को किया सख्त

Saturday, 03 Nov 2018 09:43:24 AM
ट्रंप के इस कदम से आईटी पेशेवरों की बढ़ सकती है मुश्किलें, एच-1बी वीजा के नियमों को किया सख्त

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नई दिल्ली। ट्रंप प्रशासन ने एच-1बी वीजा के नियमों में कुछ बदलाव करने के साथ ही इसे और ज्यादा सख्त बना दिया है। जिस वजह से भारत के आईटी पेशेवरों की मुश्किलें बढ़ सकती है। जानकारी के अनुसार अब से अमेरिका में मालिकों को अपने यहां काम करे रहें विदेशी कर्मचारियों को संख्या श्रम विभाग (Labour Department) को बतानी होगी। अब इस नियम के बाद अमेरिका में नए विदेशी कर्मचारियों को नियुक्त करने में मुश्किलों को सामना करना पड़ सकता है। बता दें कि ट्रंप प्रशासन ने एच-1बी वीजा श्रम आवेदन प्रक्रिया (Application process) के नियम पहले से ज्यादा सख्त कर दिए है।


अब आवदेन प्रक्रिया के लिए सबसे पहले श्रम विभाग से मंजूरी लेनी होगी। इसके बाद श्रम विभाग इस बात की जांच करेगा कि उस पद पर किसी दूसरे घरेलू कर्मचारी के लिए तो उपलब्ध नहीं है। इस प्रक्रिया के बाद ही अमेरिकी कंपनी विदेशी कर्मचारी को नियुक्त कर सकती है। इसके साथ ही नियोक्ताओं (काम देने वाला) को  एच-1बी वीजा के तहत रोजगार शर्तो की पूरी जानकारी देनी होगी। खाली पदों से लेकर समय सीमा तक की जानकारी ​देनी होगी। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ट्रंप के इस कदम से भारत के आईटी पेशावरों की मुश्किलें इसलिए बढ़ जाएगी क्योंकि भारतीयों आईटी पेशेवरों को ही एच-1बी वीजा की सबसे ज्यादा मांग रहती है।एच-1बी वीजा तहत अमेरिका की कंपनी एक अप्रवास और अस्थायी विदेशी पेशेवरों को नौकरी पर रखने की अनुमति देती है।

ट्रंप की भारत यात्रा पर अमेरिका से जारी है बातचीत: विदेश मंत्रालय

PoK से होकर बस सेवा शुरू करना चाहते है चीन-पाकिस्तान, भारत ने किया विरोध

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures